मुंबई। शीना बोरा हत्याकांड की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी की हालत अब भी नाजुक बनी हुई है। इंद्राणी को शुक्रवार को बेहोशी की हालत में भायखला जेल से जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जेजे अस्पताल के डीन डॉ. टीपी लहाने शनिवार को ने बताया कि इंद्राणी की जिंदगी पर अगले 48 घंटे तक खतरा बरकरार है। इसके बाद ही हम कह पाएंगे की उसकी हालत में सुधार हुआ या नहीं। अभी वह गहरी नींद में है लेकिन उसका ब्लड प्रेशर और पल्स सामान्य हैं। वह वेंटिलेटर पर नहीं है लेकिन खुद से सांस नहीं ले पाने के कारण उसे ऑक्सीजन लगाया गया है।

डॉ. लहाने ने बताया कि गैस्टि्रक टेस्ट में ड्रग का पता नहीं चला। अब रविवार शाम तक खून और पेशाब की जांच रिपोर्ट मिलने पर ही इस बारे में पता चल पाएगा।

जांच शुरू

इस बीच आइजी (जेल) ने जेल अधिकारियों और मेडिकल स्टाफ की लापरवाही समेत इस मामले के विभिन्न पहलुओं की जांच शुरू कर दी है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने शुक्रवार को जांच का आदेश दिया था। अस्पताल को जेल प्रशासन से मिले रिकॉर्ड के मुताबिक इंद्राणी पिछले 11 सितंबर से एपिलेप्सी की दवा ले रही थी। माना जा रहा है कि गुवाहाटी में अपनी मां के निधन की जानकारी मिलने पर वह डिप्रेशन में चली गई थी। इंद्राणी को 12 से 25 सितंबर तक जेजे अस्पताल के डॉक्टर ने डिप्रेशन की दवा भी दी थी। जांच में इस बात का पता लगाया जाएगा कि इंद्राणी ने इतनी दवा कैसे जमा कर ली।

महाराष्ट्र के गृह विभाग के वरिष्ठ अधिकारी सतवीर सिंह ने बताया कि जेल प्रशासन की निगरानी में इंद्राणी को सुबह और शाम एपिलेप्सी का एक-एक टैबलेट दिया गया। लेकिन उसने सभी को जमाकर शुक्रवार को एक ही साथ खा लिया। उन्होंने कहा कि इसकी जांच की जाएगी।

बता दें कि इंद्राणी मुखर्जी को 25 अगस्त को बेटी शीना बोरा की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया। इसके अलावा इस मामले में इंद्राणी के पूर्व पति संजीव खन्ना और ड्राइवर श्यामवर राय को भी गिरफ्तार किया गया है।इंद्राणी से मिलने के लिए कोर्ट में अर्जी इस बीच इंद्राणी की वकील गुंजन मंगला ने उससे मिलने के लिए कोर्ट से अनुमति मांगी है। अपनी अर्जी में उन्होंने कहा कि उन्हें अस्पताल में अपने मुवक्किल से मिलने से रोक दिया गया। इसके बाद कोर्ट ने अस्पताल से इंद्राणी की स्वास्थ्य रिपोर्ट तलब की और सुनवाई अगले सप्ताह तक स्थगित कर दी।

पढ़ेंःइंद्राणी समेत तीनों आरोपियों को चार गवाहों ने पहचाना

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjeev Tiwari