नई दिल्ली (जेएनएन)। महिला और उसकी 16 वर्षीय बेटी से दुष्कर्म के आरोप में घिरे आशु महाराज उर्फ आशिफ खान को दिल्ली की अदालत ने तीन दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर भेज दिया है। शाहदरा थाना पुलिस ने आशु बाबा को बृहस्पतिवार को गिरफ्तार किया था। उस पर एक महिला और उसकी 16 वर्षीय नाबालिग बेटी से सामुहिक दुष्कर्म का आरोप है। मामले में महिला ने हौजखास थाने में बाबा के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई थी।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच आरोपित बाबा के खिलाफ जांच कर रही है। बृहस्पतिवार को गिरफ्तारी के बाद शाहदरा पुलिस ने प्राथमिक पूछताछ के बाद आरोपित बाबा को क्राइम ब्रांच के हवाले कर दिया था। क्राइम ब्रांच ने बुधवार को घंटों आशु बाबा के रोहिणी आश्रम में सर्च ऑपरेशन चलाया था।

इससे पहले आशु पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली महिला का मंगलवार को साकेत कोर्ट में बयान दर्ज कराया गया था। इसी केस की पीड़ित महिला की 16 वर्षीय बेटी का बयान बाद में दर्ज कराया जाएगा। क्राइम ब्रांच के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक बंद कमरे में मजिस्ट्रेट के समक्ष महिला का बयान दर्ज कराया गया था। बताया जा रहा है कि मजिस्ट्रेट के सामने बाबा की काली करतूत बताते हुए महिला रो पड़ी थी।

अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने का आरोप

महिला ने कहा कि आशु बाबा ने उसे व उसकी नाबालिग बेटी को कई बार अपनी हवस का शिकार बनाया। बाबा उन जैसी लाचार कई महिलाओं व किशोरियों के साथ घिनौना कृत्य कर चुका है, लेकिन लोकलाज के डर से कोई महिला या किशोरी सामने नहीं आ रही है। महिला ने आशु पर उसके व उसकी बेटी के साथ अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने का भी आरोप लगाया। उसने आशु के मैनेजर रवि शंकर, आशु के बेटे समर व उसके दोस्त सौरभ पर भी कई बार दुष्कर्म व अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने एवं धमकी देने का आरोप लगाया।

कई बार किया गया दुष्कर्म

क्राइम ब्रांच के अधिकारी के अनुसार गाजियाबाद के इंदिरापुरम की रहने वाली पीड़ित मां-बेटी बीते 4 सितंबर को इलाज के लिए हौजखास स्थित एक डॉक्टर के पास आई थीं। डॉक्टर की सलाह पर वहीं से महिला ने पुलिस को कॉल कर आशु के खिलाफ शिकायत की थी, जिसके बाद मुकदमा दर्ज किया गया था। क्राइम ब्रांच के अधिकारी के अनुसार हौजखास में भी आशु का परामर्श केंद्र है। उसके बुलाने पर महिला कई बार वहां अपनी बेटी को लेकर जा चुकी है। वहां भी उनके साथ कई बार दुष्कर्म किया गया।

आरोपियों को मोबाइल फोन बंद आ रहे हैं

मुकदमा दर्ज करने के बाद हौजखास थाना पुलिस ने आशु के खिलाफ कार्रवाई नहीं की। थाना पुलिस से ही उसे मुकदमा दर्ज होने की जानकारी मिली, जिसके बाद 9 सितंबर को आशु समेत चारों आरोपी भूमिगत हो गए। चारों के मोबाइल फोन बंद आ रहे हैं। दक्षिण जिला पुलिस अगर समय रहते कार्रवाई करती तो चारों आरोपी गिरफ्तार किए जा सकते थे। आशु लोगों की हस्तरेखा देखकर उनके भविष्य बताता है। इसके लिए वह 25000 रुपये फीस लेता है।

शक्ल देखकर बताता था भविष्य

क्राइम ब्रांच की टीम मंगलवार को जांच के सिलसिले में हौजखास स्थित आरोपी के आश्रम पहुंची तो वहां आरके आश्रम की रहने वालीं दो महिलाएं मिलीं। उन्होंने बताया कि वे अपना हाथ दिखाने आई थीं, मगर आश्रम बंद है। बाबा के मैनेजर ने उनसे 25000-25000 रुपये लिए थे। आश्रम के आसपास रहने वाले लोगों का कहना है कि आशु लोगों की शक्ल देखकर भी उनके बारे में बताता है।

Posted By: Amit Singh