नई दिल्ली [राहुल मानव]। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली (आइआइटी दिल्ली) में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फ़ॉर रिसर्च एंड क्लीन (सीईआरसीए) में पराली के जलाने के मुद्दे पर शुक्रवार को एक कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। इसमें एक स्टडी के बारे में बताया गया जो हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश और बिहार के कुल 6800 गांव के 1 लाख 88 हजार लोगों पर की गई है।

एम्स, आइआइटी दिल्ली के डॉक्टरों और प्रोफेसर ने की है स्टडी

इन सभी 4 राज्यों के कुल 150 जिलों के इन गांवों में कई गई स्टडी में खुलासा हुआ है कि गेहूं की पराली जलाने के बाद इससे निकलने वाले धुंए की चपेट में आने से 40 से 50 साल के बीच की उम्र के लोगों में उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन) की बीमारी बढ़ रही है। यह स्टडी एम्स के डॉक्टरों, आइआइटी दिल्ली के प्रोफेसर ने की है।

हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश और बिहार के कुल 6800 गांव पर की गई है स्टडी

शुक्रवार को कॉन्फ्रेंस में इस स्टडी को इंडियन स्टैटिस्टिकल इंस्टीट्यूट से पीएचडी कर रही और ब्रूकिंग्स इंस्टीट्यूट इंडिया की एसोसिएट फेलो प्राची सिंह ने पेश किया। उन्होंने बताया कि एम्स के डॉक्टर अम्बुज रॉय, सफदरजंग अस्पताल कर डॉ दिनकर भसिन , आइआइटी दिल्ली के सीईआरसीए के को-ऑर्डिनेटर प्रो. सगनिक डे और उन्होंने यह स्टडी तैयार की है। उन्होंने बताया है कि गेहूं की पराली के जलाने से जो धुंआ वातावरण में फैलता है, वह इन 4 राज्यों के लोगों में हाइपरटेंशन की बीमारी को बढ़ा रहा है। इन 4 राज्यों के 6800 गांव के 10 फीसद लोगों पर पराली जलाने से यह बीमारी फैल रही है। इसे जल्द ही नियंत्रित करना बेहद जरूरी है नहीं तो यह इस बीमारी का संपर्क और भी लोगों में बढ़ा देगा।

प्राची सिंह ने बताया है कि 2015 से 2016 के दौरान जनवरी से अगस्त के बीच में 30 दिनों के नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे (एनएफएचएस) के गेहूं की पराली जलाने का डाटा लेकर इस स्टडी को पूरा किया गया है। इस स्टडी पर हाल ही में डाटा लेकर काम किया गया तहस और इसका विश्लेषण किया गया था। एनएफएचएस से लोगों के स्वास्थ्य का डाटा लिया गया और प्रो. सगनिक डे ने वर्ष 2015 और 2016 के प्रदूषण के डाटा को इसमें जोड़ा।

इसे जल्द ही एक शोध पत्रिका में प्रकाशित करवाया जाएगा। 

यहां पर बता दें कि दिल्ली-एनसीआर की 31 प्रतिशत आबादी हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर की शिकार है। इनमें 31 से 50 वर्ष की आयु के 56 प्रतिशत लोग शामिल हैं। अत्यधिक तनाव और नींद कम होने के कारण इनके जीवन से चैन गायब हो गया है। हैरत की बात यह है कि खुद देशवासियों को खबर नहीं कि वे हाइपरटेंशन के शिकार हो रहे हैं।

पेशेवर से लेकर सामाजिक जीवन की बढ़ती अपेक्षाएं। सोशल मीडिया एवं टेक्नोलॉजी का ऐसा दखल कि न सोने का कोई निश्चित समय है, न खाने का और न ही एक्सरसाइज का। 26 प्रतिशत के करीब दिल्लीवासियों को तो नींद ही नहीं आती। वे इनसोमनिया के शिकार हैं। जब लाइफस्टाइल ऐसी हो, तो डायबिटीज और हाइपरटेंशन से कैसे बचें?

बात यहीं खत्म नहीं होती। पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया, हार्वर्ड टी.एच. चार स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ, द हिडलबर्ग इंस्टीट्यूट ऑफ ग्लोबल हेल्थ, यूनिवर्सिटी ऑफ बर्मिंघम एवं गॉटिंजन यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन एवं पीएलओएस मेडिसीन मैगजीन में प्रकाशित इस रिपोर्ट के अनुसार, 15 से 49 वर्ष उम्र के आधे से अधिक भारतीयों को खबर ही नहीं है कि वे हाइपरटेंशन की गिरफ्त में हैं। खासकर छत्तीसगढ़ में सबसे कम, 22.1 प्रतिशत लोग ही जागरूक हैं। हां, पुड्डुचेरी की स्थिति थोड़ी बेहतर है, जहां 80.5 प्रतिशत लोग हाइपरटेंशन को लेकर सचेत हैं।

तनाव बढ़ा रहा हाइपरटेंशन

डॉक्टरों के अनुसार, हाइपरटेंशन के कई कारण हो सकते हैं। मसलन, धूम्रपान, तंबाकू सेवन, हाई कोलेस्ट्रोल, डायबिटीज जैसी लाइफस्टाइल बीमारियां, मोटापा, सीडेंट्री लाइफस्टाइल, ज्यादा नमक का सेवन आदि। इसके अलावा, हमारे यहां के किशोर-युवा हरी सब्जियों की बजाय जंक फूड एवं ड्रिंक्स को अधिक प्रेफर करते हैं। यह सब एक समय के बाद हाइपरटेंशन का कारक बन सकता है।

20 से 60 वर्ष के लोगों पर हुआ सर्वे

साकेत स्थित मैक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के डिपार्टमेंट ऑफ कार्डियक साइंसेज के चेयरमैन डॉ. के.के. तलवार ने जब 20 से 60 वर्ष की उम्र वाले दिल्लीवासियों की जीवनशैली को लेकर एक सर्वे किया, तो पाया कि शहरों की तेज गति से भागती जिंदगी ने तनाव का स्तर काफी बढ़ा दिया है। इसमें पेशेवर चिंताएं अधिक होती हैं, जिसकी खानापूर्ति अनहेल्दी खाने या फिर वीडियो गेम्स, सोशल मीडिया में समय बिताकर की जाती है। लोग बाहर निकलने से बचते हैं। 58 प्रतिशत दिल्लीवासी पूरे हफ्ते कोई भी एक्सरसाइज नहीं करते।

डॉ. तलवार बताते हैं कि 40 साल की प्रैक्टिस में उन्होंने शहरी लोगों में हृदय संबंधी बीमारियों के खतरे को बेतहाशा बढ़ते देखा है। खराब खानपान की आदत, एक्सरसाइज न करना, व्यस्त एवं तनावपूर्ण जीवन जीने के कारण बहुत से लोग तो तंबाकू और अन्य नशे के आदि हो जाते हैं। तनाव से नींद नहीं आती। इस तरह पूरा पाचन तंत्र तहस-नहस हो जाता है। हाइपरटेंशन का खतरा कई गुणा बढ़ जाता है, सो अलग। ऐसे में अगर इन सबको नियंत्रण में रखा जाए, तो हृदयघात यानी हार्ट स्ट्रोक व हार्ट अटैक से भी काफी हद तक बचा जा सकता है।

18-19 वर्ष में शुरू कर दें बीपी की जांच

दिल्ली स्थित एम्स द्वारा 24 राज्यों में किए गए ग्रेट इंडिया बीपी सर्वे पर गौर करें, तो भारत में हर पांच यंग एडल्ट्स में से एक उच्च रक्तचाप यानी हाई ब्लड प्रेशर का शिकार है। पश्चिमी देशों की तुलना में यहां कम उम्र में यह लोगों को अपनी चपेट में ले लेता है। यहां इसकी स्क्रीनिंग भी अमूमन 30 वर्ष की आयु में शुरू होती है, तब तक काफी विलंब हो चुका होता है। इस स्थिति से बचने के लिए यथाशीघ्र यानी 18 से 19 वर्ष की आयु में बीपी की जांच शुरू हो जानी चाहिए। कॉलेज स्टूडेंट्स की नियमित बीपी जांच के अलावा, स्कूली बच्चों को एक्सरसाइज, स्पोर्ट्स एवं स्वास्थ्यवर्धक खाने के लिए प्रेरित करना होगा। अध्ययनों से पता चलता है कि 21 से 30 वर्ष के 78 प्रतिशत युवाओं को घर का खाना पसंद ही नहीं। वे बाहर खाने को प्राथमिकता देते हैं। इस आदत को भी बदलना होगा।

हाइपरटेंशन के कार

  • अत्यधिक तनाव में रहना
  • स्मोकिंग या नशे की लत
  • नींद न आने की समस्या
  • एक्सरसाइज न करना

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण

  • उच्‍च रक्‍तचाप के प्रारंभिक लक्षण में रोगी के सिर के पीछे और गर्दन में दर्द रहने लगता है। कई बार इस तरह की परेशानी को वह नजरअंदाज कर देता है, जो आगे चलकर गंभीर समस्‍या बन जाती है। आमतौर पर हाई ब्लड प्रेशर के ये लक्षण होते हैं।
  • तनाव होना सिर में दर्द सांसों का तेज चलना और कई बार सांस लेने में तकलीफ होना सीने में दर्द की समस्या आंखों से दिखने में परिवर्तन होना जैसे धुंधला दिखना पेशाब के साथ खून निकलना, सिर चकराना, थकान और सुस्ती लगना नाक से खून निकलना, नींद न आना, दिल की धड़कन बढ़ जाना।
  • कई बार कुछ लोगों में उच्‍च रक्‍तचाप से संबंधित कोई भी लक्षण नजर नहीं आता। उन्‍हें इस बारे में चेकअप के बाद ही जानकारी होती है।
  • हाई ब्‍लड प्रेशर के लक्षण दिखाई न देना किडनी और हार्ट के लिए घातक हो सकता है। इसलिए अगर आपको लगातार थकान या आलस जैसी सामान्य समस्या भी है, तो अपना ब्लड प्रेशर जरूर जांच करवाएं।

नमक लें कम

डॉक्टर के अनुसार, ब्लड प्रेशर के बढ़ने का सबसे बड़ा कारण है, अधिक मात्रा में नमक का सेवन, जिससे कि हृदय की समस्याएं होने का खतरा बढ़ जाता है। अगर आप समय रहते अपने खान-पान पर ध्यान देंगे तो आगे जाकर आपको किसी प्रकार की समस्या नहीं आयेगी।

कोलेस्ट्रॉल के स्तर पर नियंत्रण

ऐसे आहार लें जिनसे शरीर में कालेस्ट्राल का स्तर नियंत्रित रहे क्योंकि कोलेस्ट्राल का स्तर हृदय स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित करता है। सेब और संतरे जैसे फल, प्याज़, ब्रोकोली जैसी सब्जि़यों और मछली का सेवन करें।

दिल्ली-NCR का ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप