नई दिल्‍ली, जागरण डिजिटल डेस्‍क। भारत (India) ने बीते 15 अगस्‍त को अपनी आजादी के 75 साल पूरे कर लिए। इस मौके पर पूरे देश में पूरब से पश्चिम और उत्‍तर से दक्षिण तक आजादी के अमृत महोत्‍सव (Azadi Ka Amrit Mahotsava) को पूरे जोश व उत्‍साह के साथ मनाया गया। हिंदुस्‍तान ने अपनी आजादी के बाद से कई पड़ाव देखे हैं, कई मुकाम हासिल किए हैं, देश में विकास संबंधी कई गतिविधियां हुई हैं। ऐसे में भारतीय सेना कैसे पीछे रहे।

आजादी के बाद भारत ने अपनी सैन्‍य ताकत में भी इजाफा किया है। नतीजा यह है कि भारत अब दुनिया की कुछ सर्वश्रेष्‍ठ सैन्‍य शक्तियों की सूची में शामिल हो गया है। इस पूरे सफर में युद्ध के तरीके, इसकी रणनीतियां बदली हैं और इसके अनुसार हथियारों में भी बदलाव किए जा रहे हैं।

इसी के मद्देनजर देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने आज मिलिट्री इंजीनियरिंग सर्विसेज (एमईएस) की तरफ से आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया और इस दौरान उन्‍होंने कई अहम बातों का भी जिक्र किया।

मालूम हो कि एमईएस (MES) भारतीय सेना की एक प्रमुख निर्माण कंपनी है। भारत की सबसे बड़ी निर्माण और मेंटिनेंस एजेंसियों में से एक एमईएस का कुल वार्षिक बजट 13,000 करोड़ रुपये है।

कार्यक्रम में एक सिस्‍टम (एफ-इंसास) सोल्‍जर के रूप में भारतीय सेना के एक फ्यूचर सोल्‍जर ने रक्षा मंत्री को कई नई हथियार प्रणालियों के बारे में बताया जिसमें एके-203 असॉल्‍ट राइफल भी शामिल रहा।

सेना के अधिकारी ने असॉल्‍ट राइफल एके-203 के बारे में जिक्र करते हुए कहा कि हल्‍के वजन, आधुनिक टेक्‍नोलॉजी से लैस और बेहद मजबूत इस असॉल्‍ट राइफल का प्रभावी रेंज 300 मीटर है। जवान ने बताया कि यह एके सीरीज का पहला स्‍वदेशी हथियार है।

यहां सुनें सेना के जवान की पूरी बात 

इतना ही नहीं, युद्ध भूमि में अधिक समय तक डटे रहने के लिए भारतीय सेना ने इंफ्रेन्‍ट्री सोल्‍जर (पैदल सेना) के लिए बैलिस्टिक हेलमेट, बैलिस्टिक गॉगल्‍स, बुलेटप्रूफ जैकेट, एल्‍बो पैक, घुटने के पैक बनाए हैं। उन्‍होंने बताया कि ये हेलमेट और बुलेटप्रूफ जैकेट 9 एमएम और एके-47 जैसे घातक हथियारों के बुलेट से रक्षा करता है।

सोल्‍जर ने बताया कि युद्ध क्षेत्र में रात के समय में दुश्‍मन की पहचान के लिए इंफ्रेंन्‍ट्री सोल्‍जर के लिए एक लाईट की भी व्‍यवस्‍था की गई है जो हेलमेट पर माउंटेड है। कम्‍युनिकेशन के लिए सोल्‍जर को हेड कमांडर और हेडसेट की सुविधा दी है जो हैंड फ्री काम करने में कारगर है।

इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने बढ़ती चुनौतियों का सामना करने के लिए सेना को नौ स्‍वदेशी हथियार सौंपे। इनमें एके-203 और एफ-इंसास राइफल्‍स के अलावा नई एंटी पर्सोनेल माइन 'निपुण' जैसे भारतीय कंपनियों के बनाए गए हथियार भी शामिल हैं।

सुनें रक्षा मंत्री का पूरा बयान 

Edited By: Arijita Sen