अमित तिवारी, नई दिल्ली। इंटरनेट की दुनिया में हर व्यक्ति के सामने कहीं ना कहीं किसी ना किसी पासवर्ड का इस्तेमाल करने की नौबत आ ही जाती है। ऐसे में पासवर्ड में सेंध लगने की खबरें इंटरनेट की दुनिया से जुड़े हर व्यक्ति की घबराहट बढ़ा देती है। ऐसी हर खबर के बाद कई लोग अपने पासवर्ड बदलते दिख जाते हैं।

कंपनियां भी अक्सर अपने कर्मचारियों को समय-समय पर ईमेल व अन्य अकाउंट के पासवर्ड बदलने की सलाह देती रहती हैं। पासवर्ड क्या है और इसे कैसे सुरक्षित रखा जा सकता है, यह सवाल सबके मन में रहता है। सरल शब्दों में समझें तो पासवर्ड अपने नाम से ही एक संदेश देता है कि इसे हमेशा अपने ही पास रखें। जैसे ही पासवर्ड आपसे दूर हुआ यानी आपने किसी और को बताया, आप खतरे की जद में आ जाते हैं।

कैसा हो पासवर्ड?

पासवर्ड रखते समय कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है। कभी भी ऐसा पासवर्ड रखने से बचें, जिसका आसानी से अनुमान लगाया जा सकता हो। पासवर्ड में अपना या किसी परिचित, परिजन का नाम नहीं रखें। शून्य से नौ तक की गिनती या एबीसीडी जैसे आसान पासवर्ड रखना भी खतरनाक हो सकता है। अगर किसी का नाम पासवर्ड में इस्तेमाल करना ही हो, तब प्रयास करें कि उसके आगे या पीछे पांच या छह अंकों का कुछ ऐसा कॉम्बिनेशन रखें, जिसका अंदाजा ना लगाया जा सके। यह कॉम्बिनेशन उसी व्यक्ति का जन्मदिन, मोबाइल नंबर, आपका जन्मदिन या मोबाइल नंबर तो बिलकुल भी नहीं होना चाहिए।

हर जगह अलग-अलग रखें पासवर्ड

आज की तारीख में पासवर्ड का इस्तेमाल इतनी जगह पर करना पड़ता है कि इन्हें याद रखना मुश्किल हो जाता है। इस मुश्किल से बचने के लिए कई लोग हर जगह एक ही जैसे पासवर्ड का इस्तेमाल करने लगते हैं। ऐसा करना बहुत घातक हो सकता है। बैंकिंग पासवर्ड, ईमेल आइडी का पासवर्ड और अन्य महत्वपूर्ण लॉगइन पासवर्ड हमेशा अलग-अलग रखें। साथ ही इनमें से कोई भी पासवर्ड कहीं और इस्तेमाल नहीं करें।

कैसे लगती है सेंध?

आमतौर पर हैकर अक्सर छोटी और कम सुरक्षित वेबसाइट्स को निशाना बनाते हैं। कई लोगों के मन में सवाल आता है कि इस डिटेल को चुराकर हैकर क्या कर लेगा? या उस डाटा से किसी को क्या नुकसान है? दरअसल एक ही ईमेल आइडी और एक ही जैसा पासवर्ड कई जगह इस्तेमाल करने वालों को ऐसी स्थिति में सबसे ज्यादा खतरा रहता है। हैकर को किसी एक वेबसाइट पर आपकी लॉगइन आइडी और पासवर्ड का पता लगता है, तो वह उसका इस्तेमाल हर संभावित जगह करता है। किसी भी दूसरी जगह पर अगर आपने उसी आइडी और पासवर्ड का इस्तेमाल किया होगा, तो वह खुद-ब-खुद हैकर के हाथ लग जाएगा। जाहिर है, हमें इसे लेकर सतर्क रहने की जरूरत है।

रखें अलग-अलग ईमेल आइडी

हैकर्स के निशाने से बचने के लिए जरूरी है कि बिना वजह केवल मनोरंजन के नाम पर कहीं भी सब्सक्राइब और साइन अप करने की आदत से बचें। अगर इससे नहीं बच सकते हैं, तो बेहतर होगा कि दो ईमेल आइडी का प्रयोग करें। बैंक, ऑफिस और कुछ महत्वपूर्ण जगहों पर जो ईमेल आइडी रजिस्टर्ड हो, उसका इस्तेमाल हर छोटी-मोटी वेबसाइट पर नहीं करें। एक दूसरी ईमेल आइडी बना लें और तमाम छोटी-मोटी मनोरंजन वाली या शॉपिंग, चैटिंग के लिए इस्तेमाल होने वाली वेबसाइट्स पर इसी ईमेल आइडी का प्रयोग करें। समाचार या वीडियो देखने के लिए कहीं सब्सक्राइब करना हो, तब भी इसी ईमेल आइडी का प्रयोग करें। अपनी मुख्य ईमेल आइडी का प्रयोग जितनी कम जगहों पर सब्सक्रिप्शन के लिए करेंगे, उतना सुरक्षित रहेगा। हर जगह ओरिजनल ईमेल आइडी न लगाएं।

Posted By: Sanjay Pokhriyal