नई दिल्ली, प्रेट्र। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में केंद्रित एक प्रमुख रियल एस्टेट समूह के 25 से अधिक परिसरों में आयकर छापे मारे गए। यह कंपनी आधारभूत ढांचे से लेकर खनन के क्षेत्र से भी जुड़ी है। छापों के बाद इस कंपनी ने 3000 करोड़ रुपये का कालाधन होने की बात कुबूल कर ली है। साथ ही इस पर टैक्स चुकाने का भी वादा किया है।

45 पुरानी है यह कंपनी 

सोमवार को जारी वक्तव्य सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (सीबीडीटी) ने तो इस कंपनी का नाम उजागर नहीं किया है। लेकिन आधिकारिक सूत्रों का दावा है कि यह कंपनी ओरियंटल इंडिया समूह है। 45 साल पुरानी इस कंपनी ने राजमार्गो, फ्लाइओवरों, पुलों और एयर फील्ड आदि का भी निर्माण किया है। यह कंपनी खनन विशेषकर कोयले के खनन में भी दखल रखती है।

250 करोड़ रुपये के नकद के साथ रसीदें भी जब्त

पिछले हफ्ते ही आयकर विभाग ने इस कंपनी समूह के 25 से अधिक परिसरों में छापे मारे थे। बिना हिसाब वाले 250 करोड़ रुपये के नकद के साथ उसकी रसीदें भी जब्त कर ली गई हैं। कंपनी ने कई संपत्तियों की खरीद-बिक्री पर भी कर नहीं चुकाए हैं। छापों के दौरान 3.75 करोड़ की संपत्ति को जब्त को किया गया है। लेकिन इस कंपनी ने 3000 करोड़ रुपये से भी अधिक की अघोषित संपत्ति होने की बात स्वीकार कर ली है। आयकर विभाग के लिए यह बहुत बड़ी सफलता है। सीबीडीटी के बयान के अनुसार छापों के बाद 32 बैंकों के लॉकरों को जब्त किया गया है। 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप