मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

अहमदाबाद, राज्य ब्यूरो। दूसरी शादी के आरोप में निलंबित IAS अधिकारी गौरव दहिया की परेशानी नहीं थम रही है। दूसरी पत्नी ने बेटी के पिता की पहचान करने के लिए DNA टेस्ट कराने की मंजूरी दे दी है। निलंबित IAS अधिकारी बच्ची का पिता होने से इन्कार कर रहे हैं।

मामले की जांच कर रही IAS अधिकारियों की तीन सदस्यीय समिति को पीड़िता ने अपनी आठ माह की बेटी का जन्म प्रमाणपत्र और अन्य दस्तावेज सौंपे हैं। इसमें पिता के तौर पर दहिया के हस्ताक्षर हैं।

सूत्रों का कहना है जांच समिति के समक्ष दहिया ने भी पीड़िता से संबंधों को स्वीकार किया है। पहली पत्नी से मनमुटाव के दौरान पीड़िता से संबंध बने और भावुकता में शादी कर ली थी।

इस बीच दहिया की एक याचिका का निपटारा करते हुए हाई कोर्ट ने गुजरात पुलिस से मामले में हस्तक्षेप नहीं करने को कहा है। निलंबित अधिकारी ने कोर्ट से कहा है कि दिल्ली पुलिस मामले की जांच कर रही है लेकिन गांधीनगर पुलिस उन्हें बार-बार समन कर रही है।

बता दें कि राज्य सरकार ने 14 अगस्त को 2010 बैच के IAS अधिकारी दहिया को निलंबित कर दिया था। महिला की शिकायत पर गुजरात पुलिस भी दहिया के खिलाफ जांच कर रही है। महिला का दावा है कि दहिया ने पहली शादी की बात छिपाते हुए उससे फरवरी, 2018 में विवाह किया था।

वहीं, दहिया ने पिछले महीने पुलिस में दिए आवेदन में कहा है कि वह हनी ट्रैप के शिकार हुए हैं। उन्होंने महिला पर पैसे के लिए ब्लैकमेल करने और शादी के फर्जी दस्तावेज तैयार करने के आरोप भी लगाए हैं।

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप