गुरुग्राम [प्रियंका दुबे मेहता]। खुश किस्मत है कश्मीर, धरा का स्वर्ग यहीं जो दिखता है...सिर्फ खूबसूरती की चादर में नहीं लिपटा है बल्कि मसालों की मिसाल भी कश्मीर बनता है। बेवरेजेज से लेकर साग और डेजर्ट तक के स्वाद व प्रजेंटेशन में कश्मीरी सौंदर्य का नायाब नमूना है। भोजन की यही महक और खूबसूरती आपको एरोसिटी के होटल नवोटल में ‘होमशेफ सीजन थ्री कश्मीरी पंडित क्यूजीन’ में मिलेगी। पढ़कर ही उसकी लजीजियत का एहसास होने लगा न? सात दिवसीय इस आयोजन में शेफ बेहतरीन डिशेज को शोकेस कर रहे हैं।

आसां नहीं कश्मीरी क्यूजीन का सफर
कश्मीरी भोजन ऐसे ही नहीं स्वाद और सौंदर्य का प्रतीक बना है। इस भोजन ने एक यात्रा को पूरा किया है जिसमें इसका धीरे-धीरे उछ्वव हुआ है। इस भोजन के विकास के इतिहास को बताने के लिए शेफ झिंसी ने इस आयोजन का भ्रमण किया और उन्होंने बताया कि आज कश्मीरी मसालों और वहां की माटी की सुगंध जो जायकों में हैं वह पीढ़ियों की मेहनत की खुशबू है जो आज जाकर इस कश्मीरी पंडित जायके को सुगंधित कर रही है।

कश्मीरी पंडितों का मांसाहारी जायका

कश्मीरी पंडित देश के ऐसे कुछ ब्राह्मण समुदायों में से हैं जो कि मांसाहारी हैं लेकिन लहसुन, प्याज, टमाटर तथा अंडे जैसी चीजों का कम प्रयोग करते हैं। बगैर लहसुन-प्याज के ही मांसाहारी डिश भी बनाते हैं। इसके बदले मसालों और दही से स्वाद में इजाफा करते हैं। इस फूड फेस्टिवल में कश्मीरी क्यूजीन में मटन और फिश को प्रमुखता दी गई है। एरोसिटी में प्रदर्शित डिशेज में प्रमुख रूप से प्रसिद्ध हाक का साग बनाया जा रहा है। यह पालक और सरसों के साग की तरह ही दिखता है। इसके अलावा यहां पर आपको मछली की डिशेज का जायका मिलेगा।

रानी झिंसी के मुताबिक कश्मीरी पंडित मछली के शौकीन हैं और ऐसे में वे विभिन्न प्रकार की मछलियों की अलग-अलग डिशेज बनाते हैं। इसमें मछली को पैन फाई करने से लेकर उसे ग्रिल करके और करी के साथ भी मछली की डिशेज बनती है। इन सभी प्रकार की मछली की डिशेज को नवोटल फूड एक्सचेंज के कश्मीरी विशेष लंच और डिनर में रखा जा रहा है। कश्मीरी पंडित स्टाइल चमन पकौड़ा मूलत: पनीर पकौड़ा होता है जिससे कि कश्मीरी मसालों की खुशबू और स्वाद से सजाया जाता है।

मटन से लेकर पालक मेथी तक का स्वाद

होम शेफ सीजन थ्री में कश्मीरी पंडित विशेष जायके में केवल मांसाहारी भोजन ही नहीं बल्कि शाकाहारी क्यूजीन को भी शामिल किया गया है। आपने दम आलू खाया होगा लेकिन कश्मीरी दम आलू का स्वाद और प्रजेंटेशन देखकर आप पहले का स्वाद भूल जाएंगे। इसमें आलू के कश्मीरी स्वाद के साथ इसके मसालों की खुशबू और कश्मीरी मिर्च की लाली डिश को बेहतरीन लुक देती है।

कश्मीरी पंडित विशेष कलेजी, यखनी मटन, कश्मीरी खीर जैसी डिशेज देखने से ही मुंह में पानी ला देती हैं। मसालों की सुगंध के बिना अधूरा है स्वाद: 24 जनवरी तक चल रहे नवोटल फूड एक्सचेंज के जीएमडी बिश्वजीत चक्रवर्ती का कहना है कि कश्मीरी फूड में खुशबूदार मसालों को ज्यादा तरजीह दी जाती है। इस आयोजन के लिए विशेष रूप से कश्मीरी मसालों को मंगवाया गया है। इसी तरह से हर डिश में यहां पर कश्मीरी मिर्च और सरसों के तेल का स्वाद दिया जा रहा है।

Posted By: Sanjay Pokhriyal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस