नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Nirbhaya Case : फांसी देने के लिए डेथ वारंट जारी होने के बाद निर्भया के चारों दोषियों ने इससे बचने लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाने शुरू कर दिए हैं। इस कड़ी में 16 फरवरी को चारों दोषियों में से एक विनय कुमार शर्मा ने अपना सिर दीवार पर मार लिया था। अब उसने अपने वकील एपी सिंह के जरिये दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में याचिका कर दावा किया है कि उसकी मानसिक हालत ठीक नहीं है। 

फांसी नजदीक देख उड़े चारों दोषियों के होश, तिहाड़ जेल प्रशासन भी सकते में

वहीं, निर्भया के दोषियों के लिए जारी डेथ वारंट के अनुसार तीन मार्च को चारों दोषी फांसी पर लटकाए जाएंगे। जैसे जैसे तीन मार्च की तारीख नजदीक आती जा रही है जेल प्रशासन दोषियों के व्यवहार को लेकर सतर्कता बढ़ाता जा रहा है। इनका व्यवहार सामान्य बना रहे इसके लिए चारों दोषियों की काउंसलिंग कराई जा रही है।

जेल प्रशासन का दावा है कि निर्भया के चारों दोषियों का व्यवहार अभी सामान्य है। अधिकारियों का कहना है कि विनय जेल अधिकारियों से लेकर कर्मचारियों तक सभी को पहचान रहा है। उसकी याददाश्त सही है। मुलाकात के दौरान भी परिजनों से उसका व्यवहार सामान्य ही रहता है। सूत्रों का कहना है कि विनय की मुलाकात सोमवार को उसकी मां से हुई थी। यह सामान्य मुलाकात थी।

तीसरी आंख का भी पहरा

सूत्रों का कहना है कि सेल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे की मदद से अधिकारी व नियंत्रण कक्ष में बैठे कर्मियों को 24 घंटे इनकी स्थिति का पता चलता रहता है। इनके सेल के आसपास करीब एक दर्जन सीसीटीवी कैमरें लगे हैं।

 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस