नई दिल्ली, पीटीआइ। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने शुक्रवार को दो श्रीलंकाई नागरिकों को गिरफ्तार किया है और उनके पास से अनुमानित 1,000 करोड़ रुपये की लगभग 100 किलोग्राम हेरोइन जब्त की गई है। इनके तार छह देशों से जुड़े हुए हैं। जांच एजेंसी ने सीमा पार से जुड़े ड्रग्स-तस्करी रैकेट की जांच में यह कार्रवाई की है। दोनों को तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में गिरफ्तार किया गया है। इनमें से एक का मुहम्मद अफनस और दूसरे का एमएमएम निवास नाम है। दोनों यहां अपनी पहचान छुपाकर रह रहे थे। 

एनसीबी ने एक बयान में कहा कि दोनों जिस ड्रग्स सिंडिकेट से जुड़े हुए थे उसके तार पाकिस्तान, अफगानिस्तान, ईरान, श्रीलंका, मालदीव और ऑस्ट्रेलिया में फैले हुए हैं। एनसीबी और पड़ोसी देश के समकक्ष जांच एजेंसी ने नवंबर, 2020  में भारती क्षेत्र में श्रीलंकाई पोत, शेनया डूवा से हेरोइन जब्ती की जांच के लिए हाथ मिलाया था। इसी के बाद इन दोनों की गिरफ्तारी हुई है।

तूतीकोरिन बंदरगाह के पास हुई थी कार्रवाई

एनसीबी और भारतीय तटरक्षक बल ने तूतीकोरिन बंदरगाह के पास पोत को रोका था और इसकी तलाशी लेने पर 95.87 किलोग्राम हेरोइन, 18.32 किलोग्राम मिथामफेटामाइन, पांच पिस्तौल और मैगजीन बरामद हुई। पोत के छह श्रीलंकाई चालक दल के सदस्यों को गिरफ्तार किया गया था और वे वर्तमान में न्यायिक हिरासत में हैं।

बड़े अंतरराष्ट्रीय संबंधों की जानकारी के साथ मामले की जांच

एनसीबी के उप निदेशक (संचालन) केपीएस मल्होत्रा ने कहा कि अफगानिस्तान, ईरान और पाकिस्तान जैसे  बड़े अंतरराष्ट्रीय संबंधों की जानकारी के साथ हमने मामले में हर उपलब्ध जानकारी की जांच शुरू की। जल्द ही यह पता चल गया कि इस मामले के दो मुख्य षड्यंत्रकर्ता चेन्नई में रह रहे हैं। दोनों सिंडिकेट के महत्वपूर्ण सदस्य थे।वे समुद्र में पाकिस्तानी और ईरानी जहाजों से मादक पदार्थों के पिकअप और डिलवरी को नियंत्रित कर रहे थे।  दोनों श्रीलंका से ड्रग्स तस्करी मामले में भागे हुए हैं। माना जारहा है कि नवाज के खिलाफ इंटरपोल का वैश्विक गिरफ्तारी वारंट जारी है। यह गिरोह मछली पकड़ने व ढोने वाले नाव या जहाज से कई देशों से ड्रग्स तस्करी कर रहे थे।

 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप