नईदुनिया, रायपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के छत्तीसगढ़ दौरे से एक दिन पहले गुरुवार को दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों ने एक बस को आइईडी (इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) से ब्लास्ट कर उड़ा दिया। इस हमले में जहां चार लोगों की मौत हो गई, वहीं सीआइएसएफ का एक जवान शहीद हो गया। हमले में दो जवान घायल भी हो गए हैं।

राज्य में विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण से चार दिन पहले दंतेवाड़ा में नक्सलियों की ओर से किए गए इस हमले से सुरक्षा एजेंसियों के कान खड़े हो गए हैं, क्योंकि दंतेवाड़ा से करीब 100 किलोमीटर दूर जगदलपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शुक्रवार को सभा प्रस्तावित है। छत्तीसगढ़ में पंद्रह दिनों के भीतर यह तीसरा नक्सली हमला है।

दंतेवाड़ा जिले के पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने बताया कि गुरुवार को कुछ जवान सब्जी लेने बचेली बाजार गए थे। आकाशनगर कैंप वापसी के दौरान पहाड़ी के छठे नंबर के मोड़ पर नक्सलियों ने बस को निशाना बनाते हुए आइइडी विस्फोट कर दिया। इससे सीआइएसफ के जवान डी. मुखोपाध्याय शहीद हो गए, जबकि बस चालक रमेश पाटकर, सुशील बंजारे, हेल्पर रोशन कुमार साहू व जोहान की मौके पर ही मौत हो गई। 

Dantewada Naxal Attack Surviver

कांस्टेबल सतीश पठारे व के. सुरेश विशाल घायल हो गए। इन्हें बचेली अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें हेलीकॉप्टर से रायपुर भेज दिया गया। इसके साथ ही इलाके में तलाशी अभियान शुरू कर दिया गया है। विधानसभा चुनाव ड्यूटी के लिए सीआइएसफ की बटालियन-502 कोलकाता से दंतेवाड़ा पहुंची है। इस बटालियन की तैनाती आकाश नगर में की गई है।

चुनाव ड्यूटी के लिए दी गई थी बस
पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने बताया कि नक्सलियों ने जिस प्राइवेट बस को निशाना बनाया, वह चुनाव ड्यूटी के लिए सीआइएसएफ को स्वीकृत की गई थी। राष्ट्रीय खनन विकास प्राधिकरण ने चुनाव ड्यूटी के दौरान बैलाडाइला खनन इलाके में आने-जाने के लिए बस दी थी।

30 फीट ऊपर उड़ी बस, 12 फीट हो गया गढ्ढा
जानकारों के अनुसार सुरक्षाबल को नुकसान पहुंचाने के लिए नक्सलियों ने 50 किलो से अधिक के विस्फोटक का इस्तेमाल किया। विस्फोट में वाहन करीब 30 फीट ऊपर उड़ गया था। उसके परखच्चे उड़ गए। विस्फोट की तीव्रता से सड़क में करीब 12 फीट गहरा गढ्डा हो गया। सूत्रों के अनुसार विस्फोटक एक दो दिन पहले लगाया गया था।

30 अक्टूबर के हमले में गई थी कैमरामैन की भी जान
तीस अक्टूबर को भी नक्सलियों ने दंतेवाड़ा में हमला किया था। अरनपुर इलाके में किए गए इस हमले में डीडी न्यूज के एक कैमरामैन की मौत के साथ ही तीन पुलिस वाले शहीद हो गए थे।

लोकतंत्र का गला घोटना चाहते हैं नक्सली
लोकतंत्र का गला घोटने को नक्सली लगातार विधानसभा चुनाव के बहिष्कार की धमकी दे रहे हैं। वह मतदाताओं को मतदान नहीं करने की चेतावनी दे रहे हैं। गौरतलब है कि राज्य में दो चरण में विधानसभा चुनाव है। पहले चरण का मतदान 12 तो दूसरे चरण का 20 नवंबर को होगा।

एसपी बोले-बिना सूचना बाजार गए थे जवान
'चुनाव ड्यूटी के लिए कोलकाता से आए सीआइएसएफ़ के जवान बिना किसी को कोई जानकारी दिए आकाशनगर कैंप से बचेली बाजार गए थे। जवानों ने स्थानीय थाने या जिला पुलिस को बचेली जाने की सूचना नहीं दी थी, जबकि यहां आ रहे सभी जवानों को सख्त हिदायत है कि कहीं जाएं तो स्थानीय तंत्र ( डीआरजी) को साथ रखें। इस संबंध में बटालियन के अधिकारियों को नोटिस दिया जाएगा।'

-अभिषेक पल्लव, पुलिस अधीक्षक दंतेवाड़ा

Posted By: Digpal Singh