मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह पर देश के इतिहास में पहली बार गणतंत्र दिवस परेड में महिला सैनिकों की टुकड़ी को शामिल किया जा रहा है। दूसरी तरफ, एक कदम आगे बढ़ाते हुए नौसेना ने महिला अधिकारियों को युद्धपोतों पर तैनात करने की दिशा में काम शुरू कर दिया है।

गणतंत्र दिवस परेड में नौसेना की महिला टुकड़ी के प्रभारी कमोडोर बीके मुंजाल ने कहा कि पोत पर रहने की स्थिति बाहरी दुनिया से बिल्कुल अलग है। इसे देखते हुए नौसेना ने जहाजों को महिला अधिकारियों की जरूरतों के अनुकूल बनाने का फैसला किया है।

उन्होंने कहा कि इस संबंध में नौसेना के वरिष्ठ अधिकारी एक प्रस्ताव पर काम कर रहे हैं और जल्द फैसला ले लिए जाने की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि भारतीय सेना के तीनों अंगों में अधिकारी स्तर पर महिलाओं की नियुक्ति तो की जाती है, लेकिन उन्हें युद्धक दस्ते में शामिल नहीं किया जाता है।

गणतंत्र दिवस परेड की तैयारियों में जुटी लेफ्टिनेंट नंदिता भारद्वाज का कहना है कि मौका मिलने पर वह जरूर जंगी जहाजों पर पुरुष सैनिकों के साथ कंधे-से-कंधा मिलाकर काम करना चाहेंगी। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में नौसेना के युद्धपोतों के प्रावधान अलग होंगे और महिला अधिकारियों के लिए वहां अलग कमरों का भी इंतजाम होगा।

लेफ्टिनेंट दीपिका चौधरी ने बताया कि शिवालिक श्रेणी के युद्धपोतों को महिला अधिकारियों के अनुकूल बनाया गया है। अब वरिष्ठ अधिकारियों को फैसला करना है कि इस पर महिलाओं की तैनाती कब होती है।

पढ़ें: लक्षद्वीप को सामरिक चौकी के रूप में विकसित करेगी नौसेना

नौसेना का पोत समुद्र में समाया, एक नौसैनिक की मौत, चार लापता

Posted By: Kamal Verma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप