नई दिल्ली, प्रेट्र : केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर सोमवार को उच्च शिक्षण संस्थानों की राष्ट्रीय रैंकिंग की घोषणा करेंगे। मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय ने सितंबर 2015 में महत्वाकांक्षी परियोजना नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआइआरएफ) की शुरुआत की। एनआइआरएफ देशभर के सभी उच्च शिक्षण संस्थानों का रैंक तय करने की पद्धति है। इस तरह की रैंकिंग की पहली घोषणा 2016 में हुई थी।

पिछले साल के मुकाबले इस साल एनआइआरएफ में शामिल होने वाले शिक्षण संस्थानों की संख्या करीब 800 कम रही। सूत्रों के मुताबिक, इस साल 2,735 संस्थान इसमें शामिल हुए जबकि पिछले साल 3,563 संस्थान शामिल थे। हालांकि इस साल से शुरू की गई नई श्रेणी में करीब 800 नए संस्थान शामिल हुए हैं। इनमें चिकित्सा और विधि संस्थान शामिल हैं।

ऐसे तय होती है रैंकिंग

विश्वविद्यालयों और संस्थानों की रैंकिंग तय करने के लिए शिक्षक, पढ़ाई, स्रोत, शोध कार्य, ग्रेजुएशन के परिणाम और धारणा आदि कई मानदंड होते हैं। एचआरडी मंत्रालय द्वारा गठित कोर कमेटी इन मानदंडों को देखती है। कमेटी की सिफारिशों के आधार पर रैंकिंग तय होती है।

यह भी पढ़ें: 3-4 साल में बैंक नोटों के सुरक्षा मानक बदलने की योजना बना रही है सरकार

यह भी पढ़ें: नशे में छात्र कर रहे थे स्‍मृति इरानी की कार का पीछा, गिरफ्तारी के बाद मांगी माफी

By Abhishek Pratap Singh