PreviousNext

UP की जीत में मुस्लिम महिलाओं का अहम योगदान, BJP के पक्ष में की वो‍टिंग

Publish Date:Fri, 17 Mar 2017 12:42 PM (IST) | Updated Date:Sat, 18 Mar 2017 08:47 AM (IST)
UP की जीत में मुस्लिम महिलाओं का अहम योगदान, BJP के पक्ष में की वो‍टिंगUP की जीत में मुस्लिम महिलाओं का अहम योगदान, BJP के पक्ष में की वो‍टिंग
यूपी में भाजपा की जीत में महिलाओं का काफी योगदान रहा है। इस बार मुस्लिम महिलाओं ने भी भाजपा के पक्ष में जमकर वोटिंग की है।

नई दिल्‍ली (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश में भाजपा को मिली प्रचंड जीत में मुस्लिम समुदाय का अहम योगदान रहा है। इस बात का सीधेतौर पर संकेत इस बात से भी मिलता है कि मुस्लिम बहुल इलाकों में इस बार भाजपा जीतने में कामयाब रही है, क्योंकि मुस्लिम समुदाय की महिलाओं ने इस बार भाजपा के पक्ष में जमकर वोटिंग की। इसकी वजह तीन तलाक के मुद्दे पर मिला भाजपा का साथ था।

इसके अलावा केंद्र द्वारा शुरू की गईं उज्‍जवला योजना और स्‍वच्‍छ भारत मिशन से भी भाजपा ने लोगों को अपनी और जोड़ने में सफलता हासिल की है। इन विभिन्‍न योजनाओं को जमीनी स्‍तर पर काफी समर्थन मिला है। इसको भाजपा खुलकर स्‍वीकार भी कर रही है।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (आरआरएम) ने तीन तलाक के विरोध में एक सिग्नेचर कैंपेन चलाया। जिसको देशभर से दस लाख से ज्यादा लोगों का समर्थन मिला। इस मुद्दे पर समर्थन देने वालों मे ज्यादातर महिलाएं हैं। इस मुद्दे पर मुस्लिम महिलाओं का भाजपा को लगातार समर्थन मिल रहा है।

हालांकि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इस मुद्दे का विरोध करता रहा है। आरएसएस के प्रमुख नेता और प्रचारक इंद्रेश कुमार ने इस मुद्दे पर राष्ट्रीयव्यापी चर्चा किए जाने और इसको खत्‍म करने की मांग की है। उनका कहना है कि तीन तलाक को खत्म करके मुस्लिम समाज में सुधार किया जाना च‍ाहिए। इसके अलावा केंद्र द्वारा शुरू की गई अन्‍य योजनाओं ने महिलाओं को काफी प्रभावित किया है। इसमें उज्जवल योजना जिसके तहत गरीब महिलाओं को गैस सिलेंडर उपलब्ध कराए गए और स्वच्छ भारत अभियान जिसके तहत शौचालय बनवाए गए शामिल हैं।

वहीं मुस्लिम राष्‍ट्रीय मंच (एमआरएम) के राष्ट्रीय समन्वयक मोहम्मद अफजल ने सिग्नेचर कैंपेन का समर्थन करते हुए कहा कि देश में बदलाव आ रहा है। महिलाएं अपनी आजादी के प्रति जागरुक हो रही हैं। सरकार उनकी दबी हुई आवाज को उठाए इसलिए समर्थन मिल रहा है।

देश के प्रति प्रेम की भावना को बताते हुए अफजल ने सैफुल्ला का उदहारण देते हुए कहा कि आतंकी के मारे जाने पर भी पिता ने बेटे के शव को लेने से इसलिए इंकार कर दिया, क्योंकि वह देश के हित में गलत काम कर रहा था। वहीं आफरीन के गाने के खिलाफ जारी फतवे का विरोध करते हुए उन्होंने कहा कि इस बात को धर्म से जोड़ना सही नहीं है। उन्होंने कहा कि ट्रिपल तलाक और सामाजिक बुराईयों को दूर करने की कोशिश की जा रही है।

उत्तर प्रदेश में जहां मुस्लिम आबादी 19.5 फीसद से अधिक है, वहां पर इसका झुकाव भाजपा की ओर होना काफी कुछ कहता है। यूं तो 120 विधानसभा क्षेत्रों में इस वर्ग के लोग हार-जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, मगर 72 विधानसभा क्षेत्रों में इनकी आबादी 30 फीसद से अधिक है। बावजूद इसके कहीं क्षेत्रीय समीकरण, कहीं पंथ को लेकर इस संप्रदाय में ऐसा मतभेद है कि वह सियासी रहनुमा चुनने में भी एकजुट नहीं हो पाते। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव परिणाम के आंकड़ों से साफ है कि मुसलमानों के वोटों में जमकर बंटवारा हुआ। जिन 28 क्षेत्रों में उनकी आबादी 30 फीसद से भी ऊपर है, वहां भी भाजपा ने 'कमल' खिला दिया।

मुस्लिम बहुल अलीगढ़ में सपा व बसपा के मुस्लिम प्रत्याशियों को हासिल मतों का जोड़ भाजपा के विजयी प्रत्याशी को मिले मतों से भी दस हजार ज्यादा होता है। इलाहाबाद दक्षिण में यह जोड़ भाजपा के जीते प्रत्याशी से 16 हजार अधिक है। बहेड़ी में बसपा प्रत्याशी को 66009 और सपा को 63841 मत मिले। यानी भाजपा प्रत्याशी से 22 हजार अधिक।

बांगरमऊ में सपा को 59330, बसपा को 44730 मत मिले जबकि भाजपा के विजयी प्रत्याशी को 87657 मत मिले। सपा-बसपा के मतों को जोड़ दिया जाए तो वह भाजपा प्रत्याशी के मतों से 17 हजार अधिक है। बड़ापुर में कांग्रेस को 68920, बसपा को 50684 मत मिले। इनका योग भाजपा के विजयी प्रत्याशी को मिले मतों से 40 हजार से अधिक है। इसी तरह चायल, तुलसीपुर और नानपारा में मतों के विभाजन में भाजपा को जीत मिली।

भोजीपुरा में सपा को 72617 व बसपा 49882 मिले जो भाजपा के विजयी प्रत्याशी से 22 हजार अधिक है। इसी तरह सपा-बसपा के मुस्लिम प्रत्याशियों का जोड़ चायल में चार हजार, देवबंद में 26 हजार, कांठ में 41 हजार और मेरठ दक्षिण में 34 हजार अधिक है। ये सभी क्षेत्र मुस्लिम बहुल माने जाते हैं।

मुस्लिम राजनीति का लंबे समय से अध्ययन कर रहे अभय कुमार कहते हैं कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव व 2017 के विधानसभा चुनाव के परिणामों ने यह साबित कर दिया है कि मुसलमान मत एकजुट नहीं होता है। उसमें कतिपय कारणों से सीधा बंटवारा होता है। गैर भाजपा दलों को इन परिणामों की रोशनी में आगे की रणनीति तैयार करनी होगी।

यूपी में भाजपा की जीत के स‍ाथ अब शुरू होगी बदलाव की बयार

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:muslim women play key role for bjp victory in UP Assembly Election(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

अजमेर बम ब्लॉस्ट मामले मे दोषियों की सजा का ऐलान आजEVM विवाद में कूदी ममता, कहा- इस पर चर्चा के लिए EC बुलाए सर्वदलीय बैठक