मुंबई, प्रेट्र। बांबे हाई कोर्ट ने बुधवार को क्रूज ड्रग्स मामले में आरोपित माडल मुनमुन धमेचा को मुंबई के बजाय दिल्ली में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) कार्यालय में अपनी साप्ताहिक उपस्थिति दर्ज कराने की अनुमति दे दी। धमेचा ने इस आधार पर इन दोनों शर्तो में ढील की मांग की थी कि वह काम के सिलसिले में दिल्ली रहती हैं। जस्टिस एनडब्ल्यू साम्ब्रे ने धमेचा को याचिका स्वीकार करते हुए आदेश दिया कि वह दिल्ली स्थित एनसीबी कार्यालय में नियमित रूप से उपस्थिति दर्ज कराती रहें।

गौरतलब है कि हाई कोर्ट ने 28 अक्टूबर को अभिनेता शाह रुख खान के बेटे आर्यन खान और अरबाज मर्चेट के साथ ही धमेचा को भी जमानत दे दी थी। जमानत के दौरान हाई कोर्ट ने शर्त रखी थी कि आरोपितों को मुंबई में एनसीबी के दफ्तर में हर शुक्रवार को उपस्थिति दर्ज करानी होगी। साथ ही मुंबई से बाहर जाने की जानकारी एनसीबी को देनी होगी।

बता दें कि 39 साल की मुनमुन धमेचा फैशन माडल हैं। मुनमुन का ताल्लुक बिजनेस फैमिली से है। मध्य प्रदेश के सागर जिले की रहने वाली मुनमुन के परिवार से कोई भी सागर में नहीं रहता है। मुनमुन की मां का पिछले साल निधन हो गया था जिसके बारे में उन्होंने सोशल मीडिया पर भी पोस्ट किया था।

उल्लेखनीय है कि शाह रुख खान के बेटे आर्यन खान को क्रूज ड्रग्स पार्टी मामले में मुंबई उच्च न्यायालय से जमानत मिलने के बाद पिछले माह के अंत में रिहा कर दिया गया था और एक दिन बाद फॉर्मेलिटीज पूरी होने के बाद मुनमुन धमेचा को जेल से रिहा कर दिया गया। अरबाज और मुनमुन को मुंबई उच्च न्यायालय ने आर्यन खान के साथ जमानत दी थी। आर्यन खान के जमानत की स्युरिटी शाह रुख खान की खास दोस्त अभिनेत्री जूही चावला ने भरी थी।  आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा को एनसीबी ने 3 अक्टूबर को क्रूज शिप ड्रग्स मामले में गिरफ्तार किया था। 

Edited By: Monika Minal