मुंबई। मुंबई के पॉश ग्राट रोड के रिहाइशी इलाके से 340 लड़कियों को पकड़ा गया है। गुरुवार रात करीब साढ़े 8 बजे पुलिस की अचानक बढ़ी हरकत से इलाके में हलचल मच गई। ये मुंबई पुलिस की एक रेड थी और निशाना थी सिंप्लेक्स बिल्डिंग। जैसे ही पुलिस बिल्डिंग के अंदर दाखिल हुईं लोगों में अफरा-तफरी मच गई।

बॉक्सनुमा कमरों के अंदर चेहरा छुपाए लड़किया और सैकड़ों की तादाद में कपड़ों के बगैर मौजूद लोगों को देखकर माजरा समझने में देर नहीं लगी। दरअसल, ये रिहाइशी इलाका देह व्यापार का एक अड्डा था और यहा सैकड़ों की तादाद में लड़कियों को जिस्मफरोशी के लिए रखा गया था। पुलिस के मुताबिक वो पिछले कुछ वक्त से इस बिल्डिंग में हो रही हरकतों पर नजर रखे हुए थी और वो सही मौके के इंतजार में थी। गुरुवार को जैसे ही उन्हें खबर मिली कि यहा जिस्मफरोशी का धंधा जोरों पर है तो छापा मारा गया। 340 लड़कियों के साथ 134 पुरुषों को भी पकड़ा गया है।

पुलिस के मुताबिक हिरासत में ली गई ज्यादातर लड़किया बंगाली बोलने वाली हैं। जाहिर तौर पर इनके बाग्लादेशी होने की आशका जताई जा रही है और हो सकता है कि इन लड़कियों को ट्रैफिकिंग के जरिए यहा लाया गया हो। सबसे अहम बात ये कि इस जगह से कुछ ही दूरी पर पुलिस चौकी है। जाहिर तौर पर सवाल पुलिस पर भी उठ रहे हैं। सवाल ये कि आखिर इतने बड़े पैमाने पर ये गोरखधंधा कैसे चल रहा था और इतने दिनों तक पुलिस ने कार्रवाई क्यों नहीं की।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर