मुंबई [जागरण न्यूज नेटवर्क]। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना [मनसे] की चेतावनी के बावजूद बड़ी संख्या में फेरीवाले अपनी मांगों को लेकर गुरुवार को यहां आजाद मैदान में एकत्रित हुए और प्रदर्शन किया। पिछले सप्ताह अवैध फेरीवालों के खिलाफ चर्चित सहायक पुलिस कमिश्नर वसंत धोबले की कार्रवाई के दौरान एक विक्रेता की मौत हो गई थी। जिसके बाद से फेरीवाले महाराष्ट्र में 'राष्ट्रीय विक्रेता नीति' लागू करने की मांग कर रहे हैं। मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने फेरीवालों को प्रदर्शन नहीं करने की चेतावनी दी थी और प्रदर्शन करने पर अपने तरीके से निपटने की धमकी भी दी थी।

आजाद मैदान में विक्रेताओं के प्रदर्शन के बीच बृहन मुंबई नगर निगम [बीएमसी] ने अवैध फेरीवालों के खिलाफ गुरुवार को बड़े स्तर पर अभियान चलाया। बीएमसी ने 765 से ज्यादा अवैध विक्रेताओं के खिलाफ कार्रवाई की और जुर्माने के तौर पर 25.74 लाख रुपये वसूले। मुंबई में तीन लाख से ज्यादा फेरीवाले हैं जिनमें से मात्र 13,787 लाइसेंस धारक हैं। बीएमसी के मुताबिक पिछले तीन साल के भीतर पांच लाख से ज्यादा अवैध फेरीवालों को हटाया गया है। बीएमसी के लाइसेंस अधीक्षक एसपी बंदे का कहना है कि राष्ट्रीय विक्रेता नीति लागू करने का प्रस्ताव राज्य सरकार के पास भेज दिया गया है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप