कोलकाता जागरण न्यूज नेटवर्क। सारधा चिटफंड घोटाले में सीबीआइ पूछताछ का सामना करने वाले तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव मुकुल रॉय का पार्टी में कद घटता जा रहा है। संसद में रणनीति तय करने के लिए मंगलवार को गठित पार्टी की नई कमेटी में भी मुकुल को जगह नहीं दी गई है। इसमें तृणमूल के तीन लोकसभा व दो राज्यसभा सांसद शामिल हैं।

कमेटी में लोकसभा सांसदों में सौगत राय, कल्याण बनर्जी व काकुली घोष दस्तीदार, जबकि राज्यसभा से डेरेक ओ'ब्रायन और सुखेंदु शेखर राय के नाम हैं। इसके अलावा कमेटी में आमंत्रित सांसदों के तौर पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी, सुब्रत बक्शी व शुभेंदु अधिकारी का नाम हैं। दूसरी ओर मुकुल भी पार्टी से अपना फासला बढ़ाते जा रहे हैं।

मंगलवार को जमीन अधिग्रहण विधेयक के विरोध में दिल्ली में संसद के बाहर तृणमूल सांसदों के धरने में वह शामिल नहीं हुए। तृणमूल के राज्यसभा सांसद व प्रवक्ता डेरेक ओ'ब्रायन ने बताया कि मुकुल की ओर सूचना मिली है कि व्यक्तिगत कारणों से बाहर होने के चलते धरने में शामिल नहीं हो सके।

Posted By: Murari sharan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस