नई दिल्ली, जेएनएन। Chandrayaan 2  भारत को बहुप्रतीक्षित चंद्रयान-2 मिशन सोमवार तड़के 2.51 पर तय उड़ान से 56 मिनट 24 सेकंड पहले तकनीकी खराबी के कारण रात 1 बज कर 54 मिनट और 36 सेकंड पर रोक दिया गया। उल्टी गिनती बीच में रोकने के साथ ही इसरो के मिशन से जुड़े वैज्ञानिकों ने इसका प्रक्षेपण टाल दिया। अब मिशन की नई तारीख जल्द घोषित की जाएगी। वैज्ञानिक दृष्टि से यह बहुत जोखिम भरा होता यदि उड़ान के बाद उसमें खराबी आती।

वैज्ञानिक फैसला, निराश ना हो
अंतरिक्ष वैज्ञानिक गौहर रजा ने कहा है कि यह वैज्ञानिक फैसला है, इसमें निराश होने की कोई जरूरत नहीं है। यह 70 साल के अनुभव का नतीजा है कि तय समय पर खराबी को पकड़ लिया गया। अन्यथा ऐसे रॉकेट व यान का प्रक्षेपण किसी बम से कम नहीं होता है। गड़बड़ी को समय रहते पकड़ना भी बहुत बड़ी बात है। वैज्ञानिक जल्द ही देश को मिशन रोकने की विधिवत जानकारी देंगे। करीब एक माह का वक्त मिशन दोबारा लांच करने में लग सकता है। उन्होंने बताया कि यान में यदि ईधन का लीकेज हो रहा है तो उसे दुरस्त करना होगा। एक माह तक यान में ईधन को भर कर नहीं रखा जा सकता है।

इसरो ने सही फैसला लिया
वैज्ञानिकों का कहना है कि इसरो ने सही समय पर उपयुक्त फैसला किया है। चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण की नई तारीख का जल्द एलान किया जाएगा। इसरो ने अभी औपचारिक बयान दिया है। वह जल्द ही विस्तृत बयान जारी कर खराबी के बारे में जानकारी देगा। चूंकि संसद का सत्र चल रहा है, इसलिए सरकार की ओर से भी सोमवार को विधिवत बयान देकर देश को मिशन टालने की जानकारी दी जा सकती है। 

A technical snag was observed in launch vehicle system at T-56 minute. As a measure of abundant precaution, #Chandrayaan2 launch has been called off for today. Revised launch date will be announced later.

— ISRO (@isro) July 14, 2019

लांच व्हीकल में आई खराबी : इसरो
इसरो के वैज्ञानिक ने रात 2.40 बजे संक्षिप्त बयान जारी कर कहा कि चंद्रयान-2 के लांच व्हीकल जीएसएली मार्क-3 के सिस्टम में खराबी के कारण सोमवार तड़के उड़ान को रोका गया है। अगली तारीख जल्द घोषित किया जाएगा।

मायूसी व अफरातफरी का माहौल
श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण टाले जाने के बाद मायूसी व अफरातफरी का माहौल देखा गया। 

Posted By: Sanjeev Tiwari