नई दिल्‍ली (एजेंसी)। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि जम्‍मू-कश्‍मीर में 22 अलगाववादियों समेत 919 लोगों की सुरक्षा वापस ली गई है। इस कदम से देश विरोधी गतिविधियों में लिप्‍त लोगों को साफ और कड़ा संदेश दिया गया है। जम्‍मू-कश्‍मीर सरकार की ओर से उठाए गए इस कदम से पुलिस के 2,768 जवान और 389 वाहन राज्‍य प्रशासन एवं सुरक्षा के काम के लिए उपलब्‍ध हुए हैं।  

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि समीक्षा में पाया गया कि जम्‍मू-कश्‍मीर में 20 जून 2018 के बाद से लगाए गए राज्‍यपाल शासन के बाद से जिन 919 लोगों की सुरक्षा वापस ली गई है, वे इसके पात्र नहीं हैं। सरकार का संदेश बिल्‍कुल साफ है कि आतंक और अलगाववाद के खिलाफ रवैया सख्त है और इसमें कोई ढील नहीं दी जाएगी।मंत्रालय के मुताबिक, उसके निर्देश के बाद राज्‍य सरकार ने यह कदम उठाया। 

बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद केंद्र सरकार ने जम्‍मू-कश्‍मीर के अलगाववादी नेताओं पर और शिकंजा कसना शुरू किया था। केंद्र सरकार ने इन नेताओं की सुरक्षा वापस लेने के साथ और भी कई कदम कड़े कदम उठाए। इन्‍हीं कदमों के अंतर्गत केंद्र सरकार ने 22 मार्च को अलगाववादी नेता यासीन मलिक के नेतृत्व वाले संगठन जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) पर भी बैन लगाया था। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस