नई दिल्ली, प्रेट्र। केंद्र सरकार ने कोरोना महामारी से मृत्युदर में लगातार गिरावट को देखते हुए देश में निर्मित वेंटिलेटर के निर्यात को मंजूरी देने का फैसला किया है। कोरोना पर गठित उच्च स्तरीय मंत्रियों के समूह (जीओएम) ने स्वदेशी वेंटिलेटर के निर्यात संबंधी स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

24 मार्च को वेंटिलेटर के निर्यात पर पाबंदी लगा दी गई थी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को बयान में कहा कि भारत में कोरोना से मृत्युदर में लगातार गिरावट को देखते हुए यह फैसला किया गया है। वर्तमान में कोरोना से मृत्युदर 2.15 फीसद है, जो दुनिया कई देशों के मुकाबले बहुत कम है। कम मृत्युदर का मतलब है कि बहुत कम मरीजों के लिए वेंटिलेटर की जरूरत है। 31 जुलाई को सक्रिय मामलों में से मात्र 0.22 फीसद ही वेंटिलेटर पर थे।

मंत्रालय ने कहा है कि मंत्रियों के समूह के फैसले से विदेश व्यापार महानिदेशालय को अवगत करा दिया गया है, जो स्वदेशी वेंटिलेटर के निर्यात की व्यवस्था करेगा। मंत्रालय ने उम्मीद जताई है कि इससे वेंटिलेटर निर्माताओं को विदेश में नए बाजार मिलेंगे। इस समय देश में 20 ज्यादा कंपनियां वेंटिलेटर का निर्माण कर रही हैं। कोरोना महामारी को देखते हुए मार्च में वेंटिलेटर के निर्यात पर पाबंदी लगा दी गई थी। इसके दायरे में सभी प्रकार के वेंटिलेटर थे।

Posted By: Tilak Raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस