श्रीनगर, [जाब्यू]। आतंकियों की धमकी और अलगाववादियों के बहिष्कार के बीच सात सितंबर को शालीमार बाग में मशहूर संगीतकार जुबिन मेहता के बावेरियन आर्केस्ट्रा की संगीत संध्या एहसास-ए-कश्मीर की भरपूर तैयारियां की जा रही हैं। संगीत संध्या में भाग लेने वाले कलाकारों को आयोजनस्थल तक पहुंचाने के लिए 50 बीएमडब्ल्यू कारों का काफिला तैयार है।

श्रीनगर के मुगलकालीन शालीमार बाग में सात सितंबर को जुबिन मेहता के संगीत कार्यक्रम एहसास-ए-कश्मीर का आयोजन किया जा रहा है। एक अधिकारी ने बताया कि लगभग सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। जर्मन राजदूत माइकल स्टेनर खुद तैयारियों की लगातार निगरानी कर रहे हैं। सुरक्षा के खास प्रबंध किए गए हैं। पूरे आयोजनस्थल की तीन स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है। कोई भी मेहमान अपने निजी वाहन में शालीमार बाग तक नहीं आ पाएगा। आर्केस्ट्रा में शामिल 100 से ज्यादा कलाकारों के लिए 50 बीएमडब्ल्यू कारों का काफिला तैयार किया गया है। ये सभी कलाकार गुरुवार को एक चार्टर्ड विमान से म्यूनिख से सीधे श्रीनगर आ रहे हैं।

पढ़े : जुबिन मेहता की संगीत संध्या पर हमले की धमकी

गौरतलब है कि जर्मन दूतावास द्वारा आयोजित जुबिन मेहता के संगीत कार्यक्रम का कश्मीर के अलगाववादी और कुछ समाजसेवी संगठन विरोध कर रहे हैं। लश्कर से संबंधित तीन आतंकी गुटों अल नसरीन, फरजनदान-ए-मिल्लत और शौहदा ब्रिगेड ने भी इस संगीत संध्या और इसके कलाकारों पर हमले की धमकी दी है। संगीतकार जुबिन मेहता कार्यक्रम की शुरुआत में संतूरवादक अभय सोपोर की संगीतबद्ध रचना ट्रिब्यूट टू कश्मीर को समर्पित करेंगे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर