नई दिल्ली, एएनआइ। देशभर में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। खासकर देश के दक्षिण राज्यों का हाल सबसे बुरा है। इसी के मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया आज दोपहर 2.30 बजे दक्षिणी राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ एक उच्च स्तरीय वर्चुअल बैठक करेंगे। बैठक में COVID-19 स्थिति और सार्वजनिक स्वास्थ्य तैयारियों की समीक्षा करने के साथ-साथ ओमिक्रान वैरिएंयट के संदर्भ में किए जा रहे उपायों की भी समीक्षा की जाएगी।

आधिकारिक सूत्रों ने एएनआई को बताया कि आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरल, तेलंगाना, लक्षद्वीप, तमिलनाडु, पुडुचेरी और अंडमान और निकोबार द्वीप के स्वास्थ्य मंत्री इस बैठक में शामिल होंगे। बैठक में कई वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी भी शामिल होंगे।

दक्षिण भारत के कई राज्यों में सबसे अधिक मामले

इन दिनों दक्षिण भारत के कई राज्यों में कोरोना के सबसे अधिक नए मामले देखने को मिल रहे हैं। गुरुवार को केरल में 51 हजार से अधिक नए मामले सामने आए थे। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार केरल में पिछले 24 घंटों के अंदर कोरोना के 51,739 नए ​​मामले सामने आए थे। इस दौरान 42,653 मरीज ठीक हुए और 11 मरीजों की कोरोना से मौत दर्ज की गई।

केरल-तमिलनाडु ने बढ़ाई पाबंधियां

देश में कोरोना के मामलों में फिर से बढ़ोतरी हो रही है। केरल और तमिलनाडु जैसे राज्यों में भी कोरोना संक्रमण के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं। इन राज्यों ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए रविवार को संपूर्ण लाकडाउन लगाया हुआ है। केरल में आफलाइन क्लास पर भी सरकार ने रोक लगा दी है।

नौ उत्तरी राज्यों से भी बैठक कर चुके हैं मंडाविया

बता दें कि इससे पहले मंडाविया ने नौ उत्तरी राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की थी और समय पर कोरोना टेस्ट और टीकाकरण डेटा भेजने की सलाह दी थी। उन्होंने यह भी कहा था कि जिन राज्यों में कोरोना के मामले कम हुए हैं, उन राज्यों में परीक्षण को तेज किया जाना चाहिए। मंडाविया ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को राष्ट्रीय दिशानिर्देशों के अनुरूप होम आइसोलेशन में रहने वालों की निगरानी सुनिश्चित करने को कहा था। उन्होंने कहा, यह सुनिश्चित करेगा कि होम आइसोलेशन में सक्रिय मामलों की कमजोर श्रेणियों को समय पर आवश्यक चिकित्सा सहायता मिले।

Edited By: Mahen Khanna