नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय को संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष पद से हटा दिया है। मालूम हो कि रॉय ने बृहस्पतिवार को भाजपा के वरिष्ठ नेता व केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की थी।

कुछ दिनों पहले ही पार्टी में राष्ट्रीय महासचिव का पद संभाल रहे मुकुल रॉय के महत्व को कम करते हुए ममता ने एक अतिरिक्त महासचिव भी नियुक्त कर दिया था। शारदा चिटफंड घोटाला में रॉय का नाम आने और सीबीआइ द्वारा पूछताछ के बाद ममता और मुकुल के बीच लगातार दूरियां बढ़ीं हैं।

दूसरी ओर, जेटली से मुलाकात करने के मामले में मुकुल रॉय ने सफाई दी है। उन्होंने कहा कि हां, मैंने जेटली से मुलाकात की थी। यह दो मिनट के लिए एक औपचारिक मुलाकात थी। राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद बहस के दौरान जेटली के बयान से मैं प्रभावित था इसलिए मैं उन्हें बधाई देने गया था। मैंने इसी तरह कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद को भी उनके भाषण के बाद धन्यवाद दिया था।

रेल बजट में यात्री किराया नहीं बढ़ाए जाने का मुकुल रॉट द्वारा स्वागत किए जाने से भी टीएमसी काफी नाराज है। क्योंकि ममता बनर्जी ने रेल बजट की आलोचना की थी लेकिन मुकुल ने पार्टी लाइन से अलग जाकर इसे अच्छा बजट बताया था। बता दें ममता बनर्जी ने यूपीए सरकार में दिनेश त्रिवेदी को हटा कर मुकुल रॉय को रेल मंत्री बनाया था।

पढ़ें : तृणमूल की नई कमेटी में मुकुल को जगह नहीं

पढ़ें : मुकुल को भाया रेल बजट, ममता को नहीं

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021