नई दिल्ली। महंगाई और जीडीपी के मुद्दे पर बुधवार को लोकसभा में विपक्ष ने जमकर हंगामा हुआ। वहीं, राबर्ट वाड्रा के जमीन खरीद-फरोख्त मामले में भी संसद में हंगामे के आसार हैं। इसबीच, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि दो साल में आर्थिक विकास की रफ्तार धीमी है।

वाड्रा के जमीन खरीद-फरोख्त मामले में मंगलवार को भी संसद के दोनों सदनों में जबरदस्त हंगामा हुआ था, जिसके बाद सदन को स्थगित कर दिया गया था। भाजपा ने इस मामले की जांच कराने की मांग की है।

जानिए, क्या है पूरा मामला

राबर्ट वाड्रा ने फरीदाबाद में जमीन के चार डील किए। पहली डील, 8 सितंबर 2005 को 32 लाख रुपये में 12 एकड़ जमीन की हुई। दूसरी डील, 14 अप्रैल 2006 को रॉबर्ट वाड्रा ने पाहवा से ही 30 लाख रुपये में और दस एकड़ जमीन खरीदी। तीसरी डील, 13 जनवरी को वाड्रा ने हरबंस लाल पाहवा से ही अमीपुर गांव में 19 एकड़ और जमीन खरीदी। इस बार 54 लाख रुपये में और चौथी डील 28 अप्रैल 2006 को वाड्रा की पत्नी प्रियंका गांधी ने अमीपुर गांव में ही पाहवा से 5 एकड़ जमीन का सौदा 15 लाख रुपये में किया। ये ना सिर्फ लैंड सीलिंग एक्ट का उल्लंघन है बल्कि वाड्रा ने हरबंश लाल पहवा नाम के जिस शख्स से जमीन खरीदी थी, उसी को काफी मुनाफे में बेच दी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस