नई दिल्ली, एजेंसियां। चक्रवाती तूफान 'निसर्ग' के मद्देनजर गुजरात के वलसाड और नवसारी जिलों में समुद्र तट के पास रहने वाले लगभग 43,000 लोगों को अब तक सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की 13 टीमों और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (SDRF)की छह टीमों को विभिन्न स्थानों पर तैनात किया गया है। वलसाड और नवसारी जिलों में हवा की गति 60-80 किलोमीटर हो सकती है। आइएमडी के महानिदेशक मृत्युंज्य महपात्र ने इसकी जानकारी दी है।

चक्रवात निसर्ग तेजी के साथ महाराष्ट्र के अलीबाग की तरफ बढ़ रहा है। ऐसे में फिलहाल गुजरात के लिए यह चक्रवात खतरा नहीं  है, लेकिन दक्षिणी गुजरात के तटवर्ती क्षेत्रों में इसका प्रभाव देखने को  मिल सकता है। यहां तेज आंधी और भारी बारिश का अनुमान है। राज्य के मौसम केंद्र के निदेशक जयंत सरकार ने जानकारी दी कि पूर्वानुमानों के अनुसार चक्रवात गुजरात के तटवर्ती इलाकों से नहीं गुजरेगा।

चक्रवात निसर्ग के जमीन से टकराने से पहले गुजरात राहत आयुक्त ने मंगलवार को कहा कि राज्य शून्य हताहत लक्ष्य के साथ चक्रवात से निपटने के लिए तैयार है। प्रशासन ने दक्षिणी गुजरात में लगभग 80,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम शुरू कर दिया है।

Cyclone Nisarga LIVE Treacking

LIVE Gujarat Weather:

एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 19 टीमें तैनात 

समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार मीडिया से बात करते हुए गुजराती राहत आयुक्त हर्षद पटेल ने मंगलवार को कहा कि राज्य प्रशासन ने सूरत, नवसारी, वलसाड और भरूच के तटीय क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए आश्रय स्थल तैयार किए हैं। इन चार जिलों के निचले इलाकों में रहने वाले लगभग 68,971 लोगों को यहां रखा जाएगा। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 19 टीमें तैनात हैं।  

कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए बचाव दल को पीपीइ किट दी गई

समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार पटेल ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए बचाव दल को पीपीइ किट दी गई है और उन्हें महामारी को लेकर एहतियात के तौर पर शारीरिक दूरी का पालन करने और लोगों को मास्क उपलब्ध कराने जैसे निर्देश भी दिए गए हैं।

 

Posted By: Tanisk

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस