नई दिल्ली, एजेंसिया। भारतीय मौसम विभाग (IMD) के अनुसार बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवाती तूफान 'एम्फन' ने  'अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान' (Extremely Severe Cyclonic Storm) का रूप ले लिया है। समाचार एजेंसी पीटीआइ ने आइएमडी के हवाले से जानकारी दी है कि इस तूफान के अगले 12 घंटे में सुपर साइक्लोन में बदलने की संभावना है। 

गृह मंत्रालय ने चक्रवाती तूफान 'एम्फन' के सोमवार शाम तक सुपर साइक्लोन में तब्दील होने की जानकारी देते हुए कहा है कि पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटों से यह तूफान बुधवार को टकराएगा। इस दौरान  हवा की गति 185 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है। चक्रवाती तूफान 'एम्फन' के मद्देनजर मौसम विभाग (IMD) ने ओडिशा, पश्चिम बंगाल, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, असम और मेघालय के लिए 21 मई तक भारी वर्षा की चेतावनी जारी की है।

LIVE Cyclone Amphan updates:

चक्रवाती तूफान को लेकर पीएम मोदी ने की बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के विभिन्न हिस्सों में चक्रवाती तूफान Amphan से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा करने के लिए गृह मंत्रालय (MHA) और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के अधिकारियों के साथ बैठक की। गृह मंत्री अमित शाह भी बैठक में मौजूद रहे।

अगले 6 घंटे अम्फान गंभीर चक्रवातीय तूफान में बदल जाएगा

कटक मौसम विभाग के डायरेक्टर ने बताया कि अगले 6 घंटे अम्फान गंभीर चक्रवातीय तूफान में बदल जाएगा। हमने गजपति, पुरी, गंजम, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा आदि इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी ही हैं। बालासोर, भद्रक, जाजापुर, मयूरभंज, खुर्जा और कटक में बारिश में बढ़ेगी।

ओडिशा में मूसलधार बारिश की उम्मीद

ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त पीके जेना ने कहा कि एम्फन आज शाम से कल सुबह तक सुपर साइक्लोन में बदल सकता है। इसका मतलब है कि समुद्र में हवा 230 किलोमीटर प्रति घंटे से चलेगी। उन्होंने आगे बताया कि  कल तटीय ओडिशा में मूसलधार बारिश की उम्मीद है। 20 मई को, ओडिशा के उत्तरी जिलों में भारी से बहुत भारी वर्षा हो सकती है। भद्रक, केंद्रपाड़ा और जगतसिंहपुर के कुछ हिस्सों में हवा की गति 110 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है। किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तैयारी बै। रैपिड रेस्पॉन्स टीम, फायर टीमो, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया (NDRF)को उन जिलों में भेज दिया है, जो इससे प्रभावित हो सकते हैं।

NDRF की कुल 37  टीमें तैनात

राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF)के महानिदेशक एसएन प्रधान ने जानकारी दी कि ओडिशा (7 जिले) और पश्चिम बंगाल (6 जिले) में, कुल 37  टीमों को तैनात किया गया है, जिनमें से 20 टीमें दिन के अंत तक सक्रिय रूप से तैनात हो जाएंगी और 17 टीमें स्टैंडबाय पर हैं।

पीएम मोदी ने हाई लेवल मीटिंग बुलाई

पीएम मोदी ने आज शाम चार बजे गृह मंत्रालय और  राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के साथ हाई लेवल मीटिंग बुलाई है। इसकी जानकारी गृह मंत्री अमित शाह ने दी है। बता दें कि प्रधानमंत्री एनडीएमए के अध्यक्ष हैं। 

IMD के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा क्या कहा

'एम्फन' उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ते हुए तेजी से बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिम में बढ़ेगा और 20 मई की दोपहर/शाम के दौरान दीघा (पश्चिम बंगाल) और हातिया द्वीप समूह (बांग्लादेश) को पार करेगा। इस दौरान हवा की गति 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है। समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने दी है। 

उत्तर ओडिशा तट अधिकतम प्रभाव का सामना करेगा

IMD भुवनेश्वर के वैज्ञानिक उमाशंकर दास ने कहा, ' उत्तर ओडिशा तट 'एम्फन' के अधिकतम प्रभाव का सामना करेगा, जब यह जमीन से टकराएगा। हवा की गति 110-120 किमी प्रति घंटा से 130 किमी प्रति घंटे तक होने की उम्मीद है। बालासोर, भद्रक, जाजपुर, मयूरभंज जिला 20 मई को प्रभावित हो सकता है (जब तूफान जमीन से टकराएगा)।' इससे व्यापक क्षति का अंदेशा है। तूफान के जमीन की ओर बढ़ेने के साथ समुद्र अशांत होने लगेगा। इसके मद्देनजर प्रशासन ने समुद्री इलाकों में रहने वाले लोगों को हटाकर सुरक्षित जगहों पर ले जाने का काम शुरू कर दिया है। मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सख्त हिदायत दी गई है।

अगले 4 दिनों के लिए पश्चिम बंगाल और ओडिशा में बारिश की चेतावनी

अगले 4 दिनों के लिए पश्चिम बंगाल और ओडिशा में बारिश की चेतावनी जारी कर दी गई है। मौसम विभाग द्वारा जारी ताजा अपडेट के अनुसार बंगाल की दक्षिण खाड़ी के मध्य भागों में चक्रवाती तूफान पिछले 6 घंटों के दौरान उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ा और  'अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान' में बदल गया है और आज तड़के 2:30 बजे बंगाल की दक्षिण खाड़ी और बंगाल की खाड़ी के मध्य भागों में केंद्रित रहा।

यह भी पढ़ें: Cyclone Amphan: चक्रवात से निपटने के लिए गृह मंत्रालय व NDMC संग पीएम मोदी की हाई लेवल मीटिंग आज

मछुआरों को सलाह 

मछुआरों को अगले 24 घंटे के दौरान बंगाल की दक्षिणी खाड़ी में, 17-18 मई के दौरान बंगाल की केंद्रीय खाड़ी और 18-20 मई 2020 के दौरान बंगाल की उत्तरी खाड़ी में नहीं जाने की सख्त हिदायत दी गई है।

ओडिशा सरकार ने इन जगहों के लिए जारी की चेतावनी

ओडिशा सरकार के विशेष राहत संगठन द्वारा क्योंझर  जिले झूमपुरा, क्योंझर, पटना, सहोनपाड़ा और चंपुआ ब्लॉक  और मयूरभंज जिले के सुकरौली, रारुआन और करजिया ब्लॉक में गरज के साथ-साथ आंधी-तूफान की चेतावनी जारी की गई है।

ओडिशा और पश्चिम बंगाल में एनडीआरएफ ने संभाला मोर्चा

चक्रवात 'एम्फन' के  मद्देनजर राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) ने किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए अपनी 10 टीमों को ओडिशा और अपनी सात टीमों को पश्चिम बंगाल भेजा है।

एनडीआरएफ कर रहा स्थिति की निगरानी

पश्चिम बंगाल में एनडीआरएफ की टीमें दक्षिण 24 परगना, उत्तर 24 परगना, पूर्व और पश्चिम मिदनापुर, हावड़ा और हुगली में और ओडिशा के पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, बालासोर, जाजपुर, भद्रक और मयूरभंज में  तैनात हैं। तूफान के मद्देनजर एनडीआरएफ स्थिति की निगरानी कर रहा है और राज्यों और उनकी आपदा प्रबंधन टीमों और आईएमडी के साथ काम कर रहा है।

रेत कलाकार ने सैंड स्कल्पचर से दिया सुरक्षित रहने का संदेश 

रेत कलाकार सुदर्शन पटनायक ने सैंड स्कल्पचर के माध्यम से लोगों को से सुरक्षित रहने का संदेश दिया। समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार उन्होंने कहा, ' फनी के एक साल बाद फिर चक्रवात आ रहा है।मैं सबसे अनुरोध करता हूं कि आप सरकार की तरफ से जारी दिशानिर्देशों को मानें।खुद भी सुरक्षित रहिए और अपने परिवार को भी सुरक्षित रखिए।'

Edited By: Tanisk