नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। कोरोना काल के दौरान राज्यों ने अपने राजस्व में बढ़ोतरी के लिए शराब पर अतिरिक्त टैक्स जरूर लगा दिए, लेकिन इससे शराब एवं बीयर की बिक्री में काफी गिरावट दर्ज की गई है। ग्राहकों का यह भी मानना है कि राज्यों की तरफ से बियर और शराब की कीमतों में कमी करने पर वे उसकी खपत बढ़ा सकते हैं। वहीं, अधिकतर ग्राहक ई-कॉमर्स के जरिए घरों पर शराब की डिलीवरी शुरू करने के पक्ष में दिखे। यह खुलासा लोकल सर्किल्स की रिपोर्ट में किया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, मात्रा के हिसाब से इस साल जून महीने में तेलंगाना में भारत में बनी विदेशी शराब की बिक्री में पिछले साल जून के मुकाबले 1.3 फीसद, तो बीयर की बिक्री में 47.3 फीसद की गिरावट रही। इस साल जून में राजस्थान में शराब की बिक्री में 28.9 फीसद, तो बीयर की बिक्री में 38.5 फीसद की गिरावट दर्ज की गई।

वहीं, पश्चिम बंगाल में विदेशी शराब की बिक्री में 29.7 फीसद, तो बीयर की बिक्री में 80.3 फीसद की गिरावट रही। रिपोर्ट के मुताबिक, तेलंगाना में 87 फीसद ग्राहकों ने कहा कि सरकार की तरफ से शराब की होम डिलीवरी शुरू करने पर वे घर पर ही शराब मंगाने के लिए तैयार है। राजस्थान में 72 फीसद ग्राहकों ने तो पश्चिम बंगाल में 51 फीसद ग्राहकों ने ऐसी इच्छा जाहिर की।

लोकल सर्किल्स की तरफ से तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और राजस्थान में 25,000 ग्राहकों पर यह सर्वे किया गया था। इनमें 84 फीसद ग्राहक पुरुष थे, तो 16 फीसद ग्राहक महिलाएं थीं। सर्वे के दौरान शराब के ग्राहकों ने कहा कि अगर राज्य सरकार शराब पर लगाए गए अतिरिक्त टैक्स को हटा देती है, तो वे ज्यादा मात्रा में शराब और बीयर की खरीदारी करेंगे। राजस्थान में 67 फीसद, पश्चिम बंगाल में 36 फीसद तो तेलंगाना में 36 फीसद ग्राहकों ने इस प्रकार की हामी भरी। कोविड सरचार्ज लगाने पर राजस्थान पर प्रति बोतल 30 रुपए तक की बढ़ोतरी हुई है। बीयर में इस प्रकार के अतिरिक्त टैक्स से कीमत में 20 रुपए की बढ़ोतरी दर्ज की गई।

Posted By: Tilak Raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस