नई दिल्ली (जेएनएन)। देश के लोगों को एक बार फिर नोटबंदी के दिनों की याद आ गई है। ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, गुजरात समेत देश के कई राज्य कैश संकट से जूझ रहे हैं। इन राज्यों में लोग कैश को लेकर बैंक और एटीएम के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन उन्हें निराश होकर घर लौटना पड़ रहा है। एटीएम में नो कैश के बोर्ड लटके हुए हैं, तो वहीं बैंक भी लोगों को ज्यादा कैश नहीं दे रहा है।

इसे लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि हमने देश में करेंसी की समीक्षा की है और फिलहाल जरूरत से ज्यादा पैसा उपलब्ध है। नोटों की आचनक हुई कमी का कारण कुछ इलाकों में बढ़ी खपत है जिसका निपटारा किया जा रहा है। वहीं कैश की किल्लत को लेकर केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री एसपी शुक्ला ने कहा है कि हमारे पास फिलहाल 1,25,000 करोड़ का कैश है। एक समस्या है कि कुछ राज्यों में कैश कम है वहीं कुछ में ज्यादा है। सरकार ने राज्य स्तर पर कमेटियां बनाईं हैं साथ ही रिजर्व बैंक ने भी कमेटी बनाई है ताकि यह नकदी एक राज्य से दूसरे राज्य भेजी जा सके।

3 दिन में कैश की दिक्कत होगी दूर

इस समस्या को देखते हुए सरकार और आरबीआइ को भी मामले में दखल देना पड़ा। वित्त राज्यमंत्री एसपी शुक्ला ने कहा है कि 3 दिन में कैश की दिक्कत दूर हो सकती है। उन्होंने कहा है कि सरकार के पास मौजूदा समय में लगभग 1.25 करोड़ रुपये की कैश करंसी पड़ी हुई है, लेकिन किसी राज्य में कैश कम है और किसी राज्य में ज्यादा है, सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक ने कैश को एक राज्य से दूसरे राज्य में ट्रांसफर करने के लिए समिति का गठन किया है और कैश का ट्रांसफर 3 दिन में पूरा हो जाएगा।

बाजार से दो हजार के नोट गायब होना षड्यंत्र : शिवराज

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कांग्रेस लाशों पर राजनीति कर रही है। प्रदेश में आग लगाना और दंगे फैलाना चाहती है। कांग्रेस के इस षड्यंत्र को कामयाब नहीं होने दूंगा। उन्होंने यह भी कहा कि बाजारों से दो हजार रुपये के नोट गायब होना भी षड्यंत्र है। केंद्र व प्रदेश सरकार सख्त कार्रवाई करेगी।

करेंसी संकट को लेकर राहुल का PM पर निशाना

कैश संकट को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, 'पीएम मोदी ने बैंकिंग प्रणाली को बर्बाद कर दिया है। नीरव मोदी 30 हजार करोड़ रुपये लेकर भाग गया और पीएम मोदी ने एक शब्द नहीं कहा। हमें लाइन में खड़े होने के लिए मजबूर किया गया और उन्होंने (प्रधानमंत्री) 500-1000 रुपये के नोट हमारी पॉकेट से छीनकर नीरव मोदी की पॉकेट में डाल दिए।'

SBI के चेयरमैन का बयान

कैश संकट पर एसबीआइ के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि अगले सप्ताह तक चीजें सामान्य हो जाएंगी। एक ऐसा विभाग है जो इस तरह की परिस्थितियों पर नजर रखता है। ये कोई नई बात नहीं है। आरबीआइ ने 500 रुपये के नोट का प्रवाह (सर्कुलेशन) बढ़ाने के लिए कहा है।'

कैश की किल्लत से परेशान लोग

वडोदरा में लगभग हर दूसरे एटीएम में कैश की समस्या से लोग दो-चार हो रहे हैं। लोग एटीएम में कैश की किल्लत की शिकायत कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि अधिकांश एटीएम आउट ऑफ सर्विस हैं। केवल काम कर रहे एक एटीएम से 10, 000 रुपये ही निकाले जा पा रहे हैं, वो भी घंटों लंबी कतार में बिताने के बाद।

गुजरात जैसे हालात मध्यप्रदेश में भी देखने को मिल रहे हैं। भोपाल के लोगों का कहना है कि हम नकदी की समस्या का सामना कर रहे हैं। एटीएम से कैश नहीं निकल रहा है। पिछले 15 दिनों से ऐसे ही हालात बने हुए हैं। आज भी हम कैश के लिए कई एटीएम गए, लेकिन कहीं से भी कैश नहीं निकला।

वहीं, राजधानी दिल्ली भी कैश संकट की समस्या से जूझ रही है। दिल्ली के लोगों का कहना है कि वे भी कैश की समस्या झेल रहे हैं। ज्यादातार एटीएम में कैश नहीं है। जो एक एटीएम काम कर रहा है, तो उसमें सिर्फ 500 रुपये के नोट है। हमें कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है, पता नहीं अब क्या करें।'


 

By Nancy Bajpai