जेएनएन, लखनऊ। बदायूं के कटरा सआदतगंज में बसपा सुप्रीमो मायावती के हेलीकाप्टर की लैंडिंग के लिए बनाए गए हेलीपैड निर्माण में बाल श्रमिकों से काम कराने को लेकर श्रम प्रवर्तन अधिकारी को शासन ने निलंबित कर दिया है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने श्रम प्रवर्तन अधिकारी आरपी यादव को बाल श्रम निषेध कानून का पालन नहीं कराने तथा अपने दायित्वों के निर्वहन में शिथिलता बरतने के आरोप में यह कार्रवाई की है।

सामूहिक दुष्कर्म एवं हत्याकांड के बाद पीड़ित परिजनों से मुलाकात करने के लिए रविवार को मायावती के आगमन के लिए कटरा सआदतगंज में हेलीपैड बनवाया जा रहा था। इस काम में बाल श्रमिक लगाए गए थे। यह खबर टीवी चैनलों पर चलने के बाद प्रभारी जिलाधिकारी उदयराज सिंह ने श्रम प्रवर्तन अधिकारी आरपी यादव को प्रकरण देखने के निर्देश दिए। मीडिया में मामला उछलने पर मुख्यमंत्री अखिलेश ने संज्ञान लेते हुए श्रम प्रवर्तन अधिकारी कोतत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। रात तक जिलाधिकारी आवास पर श्रम प्रवर्तन अधिकारी के निलंबन का आदेश भी पहुंच गया।

इधर सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि निलंबित श्रम प्रवर्तन अधिकारी के विरुद्ध अनुशासनिक कार्रवाई प्रारम्भ कर दी गई है। कानपुर मुख्यालय के उप श्रम आयुक्त एसडी शुक्ला को जांच अधिकारी नामित किया गया है।

पढ़ें: बदायूं घटना के आरोपियों को मिले फांसी: मायावती

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस