राज्य ब्यूरो, बैतूल। ज्योतिषविद्या के जानकार कुंजीलाल मालवीय अपनी मौत की भविष्यवाणी की तारीख से 14 साल छह दिन बाद दुनिया से विदा हो गए। मध्य प्रदेश के बैतूल से 12 किमी दूर ग्राम सेहरा निवासी कुंजीलाल 20 अक्टूबर 2005 को अपनी मौत की भविष्यवाणी कर देश-दुनिया में चर्चित हो गए थे। शुक्रवार रात करीब 11 बजे 90 साल की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली। शनिवार को उनकी अंत्येष्टि की गई।

कुंजीलाल ने कहा था, 20 अक्टूबर 2005 को करवाचौथ के दिन मेरी मौत हो जाएगी

गौरतलब है कि कुंजीलाल ने अपने पास आने वाले लोगों को ग्रहों की गणना के आधार पर बताया था कि 20 अक्टूबर 2005 को करवाचौथ के दिन उनकी मौत हो जाएगी। यह भविष्यवाणी गांव में चर्चा का कारण बनी और जब जिला मुख्यालय तक पहुंची तो मीडिया के सहारे देश-दुनिया को पता चल गई।

पत्नी ने करवाचौथ का व्रत कर मेरी लंबी उम्र की दुआ मांगी थी, इसलिए मौत टल गई

जब मौत का बताया गया दिन आया, तब देश के कई न्यूज चैनलों ने लगातार 12 घंटे तक सीधा प्रसारण किया था, ताकि उनकी भविष्यवाणी की सत्यता लोग लाइव देख सकें। उस समय दिनभर कुंजीलाल के साथ परिजन और ग्रामीण गांव के हनुमान मंदिर में भजन-कीर्तन करते रहे थे। हालांकि, उस दिन उनको कुछ नहीं हुआ। तब उन्होंने कहा था कि उनकी पत्नी ने करवाचौथ का व्रत कर उनकी लंबी उम्र की दुआ मांगी थी, इसलिए मौत टल गई।

नत्था के किरदार को बताया अपनी कहानी

मौत की भविष्यवाणी के घटनाक्रम के बाद कुंजीलाल के पड़ोसी गांव पिपला के नाम पर 'पीपली लाइव' फिल्म बनी थी। इसमें कहानी नत्था नाम के किरदार के आसपास घूमती है। कर्ज से परेशान नत्था भी अपनी मौत की भविष्यवाणी करता है।

फिल्म 'पीपली लाइव' की कहानी को अपना बता निर्माता-निर्देशक को दिया था नोटिस

फिल्म के रिलीज होने पर कुंजीलाल ने दावा किया था कि यह फिल्म उनके जीवन पर आधारित है। उन्होंने फिल्म के निर्माता-निर्देशक को नोटिस भी भेजा था। हालांकि, इस मामले में आगे कुछ नहीं हुआ।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस