नई दिल्ली, जेएनएन। Coronavirus: कोरोना वायरस से जंग लड़ रहे वैज्ञानिकों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। पहले तो यह कैसे एकदम सटीक रूप से फैलता है, किन लोगों पर इसका भयानक असर पड़ता है, कैसे कोरोना मानव शरीर पर अपना भयानक असर छोड़ता है, क्यों एक चौथाई संक्रमितों में कोई लक्षण नहीं दिखाई देता है। इसी तरह की एक समस्या है निमोनिया की।

यों तो निमोनिया दुनियाभर में आम है और इसकी दवाएं भी उपलब्ध हैं लेकिन, कोरोना जिस तरह का निमोनिया पैदा करता है वो बहुत घातक होता है और इसके होने पर मरीज की मौत की आशंका काफी अधिक बढ़ जाती है।

रॉयल ऑस्ट्रेलियन कॉलेज ऑफ फिजिशियन के अध्यक्ष और दुनियाभर में मशहूर प्रो. जॉन विल्सन इस संबंध में शोध कर रहे हैं। उन्होंने काफी मरीजों के फेफड़ों के सीटी स्कैन कराए और सभी में एक तरह का खास पैटर्न उभरकर सामने आता है। कोरोना वायरस इंसान के फेफड़ों के बाहर से एक लेयर बना लेता है, जो एक प्रकार की जैली जैसा दिखता है। जैसे-जैसे संक्रमण बढ़ता है, वैसे-वैसे यह फेफड़ों को फूलने की जगह को कम करता चला जाता है। इसका असर यह होता है कि शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई कम होती चली जाती है और अंत बहुत कष्टकारी होता है।

छह में से एक मरीज की हालत हो जाती है खराब : प्रो. विल्सन बताते हैं कि कोरोना संक्रमित छह मरीजों में से केवल एक ही गंभीर रूप से बीमार पड़ता है। रेस्परेटरी ट्री (श्वसन तंत्र) में सूजन आ जाती है। इससे शरीर भयंकर परेशानी महसूस करता है। यहां तक कोरोना संक्रमण की तीसरी स्टेज चल रही होती है। प्रो. विल्सन बताते हैं कि शरीर की ही गैसों के माध्यम से कोरोना छिटककर फेफड़ों के निचले हिस्से में पहुंच जाता है और वहां सूजन पैदा कर देता है।

फ्लूड के माध्यम से यह तेजी से फैलता है और फेफड़े के ऊपरी हिस्से में भी पहुंच जाता है। होती है भयंकर परेशान जैसे-जैसे कोरोना वायरस फेफड़ों को अपनी जद में लेना शुरू करता है वैसे- वैसे फेफड़ों की ऑक्सीजन हासिल करने और उसे छोड़ने की क्षमता कम होना शुरू हो जाती है। इसके साथ ही शरीर से कार्बन डाई ऑक्साइड जमा करके उसे बाहर छोड़ने की प्रक्रिया भी प्रभावित हो जाती है, जिससे कई तरह की दिक्कतें शरीर में पैदा होने लगती हैं। पूरा श्वसन तंत्र बैठने लगता है और पूरे शरीर की कोशिकाएं भारी दबाव में आ जाती हैं।

कोरोना का निमोनिया अलग कैसे : ऑस्ट्रेलियन लंग्स फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ. क्रिश्चियन विल्सन बताते हैं कि हम कई तरह के निमोनिया को जानते-पहचानते हैं। ज्यादातर बैक्टीरिया के कारण होते हैं। उनके सटीक इलाज भी हमारे पास हैं। लगभग सभी में एंटीबायोटिक का बहुत फायदा मिलता है। कोरोना वायरस है, ऐसे में इस पर एंटीबायोटिक दवाओं का असर नहीं पड़ रहा है। डॉ. जेनिंग्स ने बताया कि आखिरकार क्यों कोरोना का निमोनिया बहुत खतरनाक है। उन्होंने बताया कि सामान्य तरह के निमोनिया में फेफड़े का एक हिस्सा प्रभावित होता है, जबकि कोरोना पूरे फेफड़े को चपेट में ले लेता है।

सटीक इलाज नहीं है उपलब्ध डॉ. जेनिंग्स बताते हैं कि कोरोना जिस तरह का निमोनिया पैदा करता है उसका सटीक इलाज इस वक्त हमारे पास नहीं है। हम कई तरह की वायरल और एंटी-वायरल दवाओं के कॉम्बिनेशन को आजमा रहे हैं। इसके साथ ही शरीर में ऑक्सीजन की प्रचुर मात्रा का स्तर बनाए रखने की कोशिश करते हैं। अगर शरीर के अन्य अंग ऑक्सीजन की प्रचुर खुराक के कारण सामान्य कामकाज करने को प्रेरित होते हैं तो हमारे पास रिकवरी का अच्छा मौका होता है।

संक्रमितों को बांट सकते हैं 4 वर्गों में :

  • पहले वर्ग में वो संक्रमित होते हैं, जिनमें कोई लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। इन्हें सब क्लीनिकल मरीज कहा जाता है। विभिन्न शोधों और अमेरिका की संचारी रोग संस्था (सीडीसी) का मत है कि लगभग 25 फीसद मरीजों को ऐसे वर्ग में रखा जा सकता है।
  • दूसरे वर्ग में वो संक्रमित आते हैं जिन्हें खांसी, सिरदर्द और बुखार की शिकायत होती है। प्रो. विल्सन बताते हैं कि ऐसे मरीजों को सांस लेने में भी हल्की दिक्कत महसूस होती है। इनका इलाज आइसोलेशन में रखकर या फिर अस्पताल के सामान्य वार्ड में रखकर किया जा सकता है। इनकी मृत्यु दर लगभग शून्य ही है।
  • तीसरे वर्ग में मरीजों को सांस लेने में भयानक दिक्कत होती है। ये बात तक नहीं कर पाते हैं। कई मानसिक दिक्कतें भी इन्हें पेश आती हैं, क्योंकि शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई कम हो जाती है। इन्हें आइसीयू में शिफ्ट करने की जरूरत होती है। इन मरीजों की मृत्यु की आशंका रहती है। इटली में ऐसे मरीजों की काफी मृत्यु हुई है।
  • चौथे वर्ग में ऐसे मरीजों को रखा जाता है जिन्हें निमोनिया हो जाता है। इनके बचने की संभावना कम होती है। प्रोफेसर विल्सन बताते हैं कि 6% से भी कम मरीजों में यह स्थिति देखी गई है। बुजुर्ग मरीजों में यह ज्यादा देखी गई है। वैसे भी साधारण निमोनिया भी बुजुर्गों में ज्यादा होता है।

Posted By: Sanjay Pokhriyal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस