नई दिल्ली, एजेंसी। भारत से ब्रिटेन जाने वालों के लिए राहत की खबर है। दरअसल 11 फरवरी की सुबह 4 बजे से कोरोना वैक्सीन की पर्याप्त खुराक ले चुके भारतीय यात्रियों को इंग्लैंड पहुंचने के बाद किसी तरह के कोरोना टेस्ट से नहीं गुजरना होगा। उन्हें केवल पैसेंजर लोकेटर फार्म की जरूरत होगी। इसमें केवल वैक्सीनेशन संबंधित जानकारी, ट्रैवल हिस्ट्री और कंटैक्ट डिटेल्स देने होंगे। इसे यात्रा से एक दिन पहले भरना होगा।

यह जानकारी भारत में ब्रिटिश उच्चायोग की ओर से जारी की गई है। इसके अनुसार 11 फरवरी से ब्रिटेन पहुंचने वाले फुली वैक्सीनेटेड भारतीयों के लिए केवल एक लोकेटर फार्म भरने की जरूरत होगी। लेकिन जिन लोगों ने वैक्सीन की पर्याप्त खुराक नहीं लगवाई हैं, उन्हें यात्रा से दो दिन पहले आरटीपीसीआर जांच कराना होगा। वहीं 18 साल से कम उम्र के किशोरों व बच्चों को इससे छूट दी गई है।

इसके अलावा जिन लोगों को वैक्सीन की एक भी खुराक नहीं लगी है उन्हें ब्रिटेन पहुंचने से दो दिन पहले RT-PCR जांच करानी होगी। रिपोर्ट नेगेटिव होने पर ही यात्रा की अनुमति दी जाएगी। हालांकि अब क्वारंटाइन केवल पाजिटिव होने पर ही किया जाएगा। वहीं अभी ब्रिटेन ने जिन देशों को रेड लिस्ट में रखा है, वहां से यात्रा शुरू करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

ब्रिटेन द्वारा यात्रा नियमों में इस बदलाव के साथ ही इसे यूरोप में सबसे अधिक मुक्त सीमाओं वाला देश करार दिया गया। यात्रा के नियमों में बदलाव और प्रतिबंधों में छूट मिलने से देश का पर्यटन भी स्वाभाविक तौर पर बढ़ेगा। ब्रिटेन के परिवहन सचिव ग्रांट शाप्स ने कहा कि यह फैसला सही है और इसे सही समय पर लिया गया है। यह सब वैक्सीन के बूस्टर डोज की वजह से संभव हो पाया है, जिसने वैक्सीनेटेड यात्रियों पर से प्रतिबंध हटाने में मदद की। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर हमारी स्थिर और सुरक्षित पूर्ण वापसी का यह अंतिम चरण है। इससे ब्रिटेन पर्यटन को काफी बढ़ावा मिलेगा।

Edited By: Monika Minal