नई दिल्‍ली, जागरण स्‍पेशल। हैदराबाद में पशु चिकित्सक युवती की गैंगरेप के बाद हत्या के विरोध में पूरा देश एकजुट हो गया। ऐसे बर्बर मामले देश के अलग- अलग हिस्‍से में देखने को मिले हैं। पिछले दिनों तेलंगाना में 10 माह की बच्‍ची के साथ दुष्‍कर्म की घटना देखने को मिली है। इसे लेकर संसद से लेकर देश के अलग-अलग हिस्‍से में लोग इसके खिलाफ एकजुट हो रहे हैं।

भारत में न्याय प्रक्रिया  है लंबी

लोगों का कहना है कि ऐसे दोषियों को तुरंत फांसी दी जाए। वहीं, 2012 में हुए दिल्ली के निर्भया केस में अब तक आरोपियों की फांसी की सजा नहीं हुई। मामला कोर्ट में लटका हुआ है। भारत में न्याय प्रक्रिया काफी लंबी है, लेकिन कुछ देशों में ऐसे जघन्य अपराधों के लिए सजाए मौत ही मिलती है।

भारत में पिछले दिनों अन्य अपराधों की तुलना में दुष्‍कर्म की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। इनसे जुड़े दोषियों को सजा देने के मामले में आम तौर पर काफी देरी होती है, इ‍सलिए आरोपियों के हौसले बुलंद होते हैं। सपा सांसद जया बच्‍चन ने राज्‍यसभा में चर्चा के दौरान कहा कि ऐसे दोषियों को भीड़ को सौंप दिया जाए। भीड़ ही उसके बारे में फैसला करेगी। वहीं दूसरी ओर दुनिया के कुछ देश ऐसे हैं जहां दुष्‍कर्म के दोषियों को 24 घंटे में सजा ए मौत दे दी जाती है। आइए जानते हैं कि किस देश में दुष्‍कर्म को लेकर कौन से कानून हैं और क्‍या है सजा का प्रावधान।

चीन में सीधे मौत की सजा

चीन उन देशों में शामिल है जहां दुष्‍कर्म के विशेष मामले में मौत की सजा का प्रावधान है। यहां पर दुष्‍कर्म के मामलों में कई लोगों को मौत के घाट उतारा भी जा चुका है। चीन में इस जुर्म की सजा जल्दे से जल्‍द दे दी जाती है।

सुअरों से कटवाकर मौत की सजा

पोलैंड में दुष्‍कर्म के आरोपी को सुअरों से कटवाया जाता है। हालांकि अब एक नया कानून आ चुका है, जिसमें आरोपी को नपुंसक बना दिया जाता है।

सिर में मार दी जाती है गोली

उत्तर कोरिया में अपराधियों के प्रति कोई दया या सहानुभूति नहीं दिखाई जाती है। यहां दुष्‍कर्म के लिए केवल एक ही सजा है और वो है मौत। यहां दुष्‍कर्मी को सरेआम सिर में कई गोलियां मारी जाती हैं।

पुरुष में डाले जाते हैं महिला के हॉर्मोन्‍स

इंडोनेशिया में दुष्‍कर्म करने वालों की भी अलग ही सजा है। यहां बलात्‍कार के आरोपियों को नपुंसक बनाने के साथ ही साथ उनमें महिलाओं के हॉर्मोन्‍स डाल दिए जाते हैं।

दोषी पाए जाने पर कड़ी से कड़ी सजा

सऊदी अरब में इस्लामिक कानून शरिया लागू है। यहां किसी भी अपराध के लिए मौत की सजा का ही प्रावधान है। अगर कोई भी व्‍यक्ति दुष्‍कर्म का दोषी पाया जाता है तो अपराधी को फांसी पर टांगने, सिर कलम करने के साथ-साथ उसके यौनांगों को काटने की सजा सुनाई जा सकती है।

एक हफ्ते में दी जाती है फांसी

संयुक्त अरब अमीरत में कई जुर्मों के लिए कुछ अलग-अलग सजाएं हैं, लेकिन दुष्‍कर्मी को सीधे मौत की सजा सुनाई जाती है। यूएई के कानून के मुताबिक, यदि किसी ने सेक्स से जुड़ा अपराध किया है तो उसे सात दिनों में फांसी दे दी जाती है।

पत्‍थर से मार कर मौत

इराक में दुष्‍कर्मी को मौत की सजा दी जाती है, लेकिन सजा देने का तरीका अलग होता है। दुष्‍कर्म के दोषी को तब तक पत्थर मारे जाते हैं, जब तक कि उसकी मौत न हो जाए। दुष्‍कर्म जैसे जुर्म करने वालों की मौत आसान नहीं होती क्योंकि दोषी को काफी देर तक पीड़ा और यातना से भी गुजरना पड़ता है। 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप