कोच्चि (जेएनएन)। केरल की बाढ़ ने चारों-तरफ हाहाकर मचा रखा है। बाढ़ की चपेट में आकर करीब 39 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि कई लोग अब भी लापता है। शुरुआती आकलन के मुताबिक करीब 20 हजार मकान और राज्य की करीब 10 हजार किमी लंबी सड़कें पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी हैं। 8316 करोड़ के नुकसान का अंदाज लगाया जा रहा है। राहत-बचाव दल 24 घंटे काम में जुटे हैं, ताकि अंतिम व्यक्ति तक मदद पहुंचाई जा सके। इस बीच केंद्र सरकार लगातार केरल की स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं।

100 करोड़ के राहत पैकेज का ऐलान

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने केरल को 100 करोड़ रुपये के राहत पैकेज देने का ऐलान किया। रविवार को उन्होंने बाढ़ के संकट से जूझ रहे केरल का हवाई सर्वेक्षण किया। साथ ही, एर्नाकुलम जिले के राहत शिविरों का भी जायजा लिया। राज्य की गंभीर स्थिति को देखते हुए उन्होंने फौरी तौर पर 100 करोड़ रुपये की मदद का ऐलान किया। हालांकि राज्य सरकार ने बाढ़ग्रस्त केरल के लिए 8,316 करोड़ रुपये का पैकेज मांगा था।

सेना ने बचाई 85 वर्षीय बुजुर्ग की जान
केरल में राहत-बचाव दल और सेना पीड़ितों की मदद के लिए मुस्तैद है। रविवार को सेना ने 85 वर्षीय एक बुजुर्ग महिला की जान बचाई। भारी बारिश के चलते हुए भूस्खलन में महिला का घर पूरी तरह से ध्वस्त हो गया था।बुजुर्ग को आदिमाली के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

राहत शिविरों में 60 हजार लोग

मूसलाधार बारिश के बाद आई बाढ़ से केरल बेहाल है। करीब 60 हजार लोग राहत शिविरों में रहने को मजबूर हैं। हालांकि बारिश अब भी आफत बनकर केरल पर कहर बरपा रही है। केरल के कुछ हिस्सों में दोबारा बारिश शुरू हो गई है, जिस कारण बाढ़ व भूस्खलन से प्रभावित इलाकों में राहत और बचाव कार्य में परेशानी झेलनी पड़ रही है। हालांकि थोड़ी राहत की खबर यह रही कि इडुक्की और इडामलायर डैम का जलस्तर थोड़ा कम हो गया है।

सात जिलों में रेड अलर्ट जारी

केरल के इडुक्की, वायनाड समेत सात जिलों में 13 और 14 अगस्त के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। बता दें कि 1924 के बाद केरल को दूसरी बार इतनी भयानक बाढ़ के दौर से गुजरना पड़ रहा है। जब 14 में से 10 जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं। जबकि बड़े बांधों के ज्यादातर गेट खोलने पड़ गए। इस बीच सोमवार सुबह पांच बजे इडुक्की बांध में 2397.94 फीट जलस्तर रिकॉर्ड किया गया, जबकि बांध के पूरे जलाशय का स्तर 2403 फीट है।

नि:शुल्क बदले जाएंगे पासपोर्ट

इस बीच विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि बाढ़ के कारण जिन लोगों के पासपोर्ट को नुकसान पहुंचा है, सरकार उन्हें बदलने के लिए कोई शुल्क नहीं लेगी।

मदद के लिए आगे आए स्टालिन व पलानीसामी

केरल की स्थिति को देखते हुए द्रमुक नेता एमके स्टालिन ने एक करोड़ रुपये की मदद को केरल के मुख्यमंत्री कोष में जमा कराने की बात कही है। जबकि तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीसामी भी केरल के लिए पांच करोड़ की राहत का ऐलान कर चुके हैं।

Posted By: Nancy Bajpai