जेएनएन, डेरा बाबा नानक (गुरदासपुर)। श्री गुरु नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व मना रहे सिख समाज के लिए शनिवार का दिन खुशियों से भरा रहा। उनकी 72 साल की अरदास पूरी हो गई और करतारपुर कॉरिडोर खुल गया। भारतीय क्षेत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तो पाकिस्तान में वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इसका उद्घाटन किया। मोदी ने श्री करतारपुर साहिब के लिए पहला जत्था रवाना करने के साथ ही गुरु नानक देव पर 550 रुपये का सिक्का भी जारी किया।

प्रधानमंत्री मोदी शनिवार सुबह पहले सुल्तानपुर लोधी (कपूरथला) गए और गुरुद्वारा श्री बेर साहिब में माथा टेका। इसके बाद डेरा बाबा नानक पहुंचे प्रधानमंत्री ने कहा कि कॉरिडोर खुलने से गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन आसान हो जाएंगे। उन्होंने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी), पंजाब सरकार और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का आभार जताया और धन्यवाद दिया। उन्होंने निर्माण कार्य में जुटे दोनों देशों के श्रमिकों का भी आभार जताया। मोदी ने कहा कि कॉरिडोर देश को समर्पित करते हुए उन्हें कारसेवा जैसी अनुभूति हो रही है। उन्होंने कहा कि गुरु नानक देव जी पूरी मानवता की धरोहर हैं। उन्होंने गुलामी के कठिन कालखंड में भारत की चेतना को जगाए और बचाए रखने के लिए जीवन समर्पित कर दिया। उनकी उदासियां और उनका समन्वय सामाजिक परिवर्तन की मिसाल है। करतारपुर से उन्होंने नाम जपो, किरत करो और वंड छको की शिक्षा दी। उन्होंने भेदभाव समाप्त करने की शिक्षा दी।

गुरु जी ने बताया था प्रकृति का महत्व

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब पंजाब में पांच नदियां पानी से लबालब बहती थीं, तब गुरु नानक देव ने पानी की चिंता जता दी थी। उनकी बाणी बार-बार कह रही है कि वापस लौटो, उन संस्कारों की ओर लौटो जो प्रकृति ने हमें दिया है। हमें इसे याद रखना चाहिए क्योंकि पानी ही जीवन का आधार है। पीएम ने कहा कि आइए संकल्प लें कि सद्भाव बढ़ाते हुए भारत का अहित करने वाली ताकतों से सतर्क रहेंगे, नशों से दूर रहेंगे।

अनुच्छेद 370 की चर्चा

मोदी ने कहा, अनुच्छेद 370 हटने से जम्मू-कश्मीर में भी सिख परिवारों को वह अधिकार मिल पाएंगे जो वहां के लोगों को मिलते थे।

एसजीपीसी ने किया सम्मानित

एसजीपीसी ने बतौर प्रधानमंत्री सिख पंथ के हित में किए कार्यो के लिए मोदी को कौमी सेवा अवार्ड प्रदान किया, जिसे उन्होंेंने श्री गुरु नानक देव जी को समर्पित कर दिया।

अकाल तख्त के जत्थेदार ने किया पहले जत्थे का नेतृत्व

करतारपुर साहिब जाने वाले पहले जत्थे का नेतृत्व श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने किया। इसमें मुख्यमंत्री कैप्टन अम¨रदर सिंह, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, सांसद सनी देयोल, पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू भी शामिल थे। ये नेता दर्शन कर देर शाम लौट भी आए।

इमरान ने उठाया कश्मीर मुद्दा

भारत से गए पहले जत्थे की मौजूदगी में इमरान खान ने कॉरिडोर का उद्घाटन करते हुए कहा कि मुझे एक साल पहले तक इस स्थान की अहमियत का पता नहीं था, लेकिन आज अपार खुशी हो रही है कि आपके लिए मैं ऐसा कर सका। सिख समाज ने उन्हें कृपाण भेंट किया। हालांकि इमरान खान अपनी आदतों से नहीं चूके और इस अवसर पर भी कश्मीर मुद्दे को उठा दिया। पाकिस्तान के धार्मिक मामलों के मंत्री ने नरूल हक कादरी ने कहा कि अगर बर्लिन की दीवार गिर सकती है, कॉरिडोर खुल सकता है तो अस्थायी रूप से बनी एलओसी भी खत्म हो सकती है।

Posted By: Tilak Raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप