भोपाल, एएनआइ। फिल्म निर्माता लीना मणिमेकलाई (Leena Manimekalai) के वृत्तचित्र पोस्टर 'काली' पर काफी विवाद हो रहा है। यह पोस्टर एक डाक्यूमेंट्री का है। इस पोस्टर में देवी काली को अपमानजनक तरीके से दर्शाया गया है। इस मामले पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने बुधवार को कहा कि 'भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party)  सभी धर्मों का सम्मान करने में विश्वास करती है और किसी को भी अन्य धर्मों के लोगों की भावनाओं को आहत करने में शामिल नहीं होना चाहिए। विदिशा जिले के सिरोंज गांव में बुधवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, 'हम किसी धर्म के प्रति किसी की भावनाओं के खिलाफ नहीं हैं।

किसी की भी आस्था को ठेस नहीं पहुंचनी चाहिए: शिवराज सिंह चौहान

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा, 'हम अपनी देवी काली का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे। किसी की भी आस्था को किसी भी कीमत पर ठेस नहीं पहुंचनी चाहिए। बता दें कि फिल्म निर्माता लीना मणिमेकलाई की एक डाक्यूमेंट्री के पोस्टर ने जिस तरह से देवी काली को दिखाया गया है, उस पर सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। तमिलनाडु के मदुरै में पैदा हुई और टोरंटो में रहने वाली लीना मणिमेकलई ने शनिवार को अपनी फिल्म का पोस्टर साझा किया था। पोस्टर में देवी काली के वेश में एक महिला को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। बैकग्राउंड में एलजीबीजीक्यू कम्यूनिटी का प्राइड फ्लैग भी दिखाया गया है।

जानिए महुआ मोइत्रा की टिप्पणी पर टीएमसी ने क्या कहा

बता दें कि तृणमूल कांग्रेस के सांसद सौगत राय ने बुधवार को फिल्म निर्माता की निंदा की। सौगत राय ने कहा,'जहां तक ​​टीएमसी का सवाल है, पार्टी फिल्म 'काली' के पोस्टर को मंजूरी नहीं देती है, यह हमारे लिए अस्वीकार्य है। हम इस मामले पर महुआ मोइत्रा के बयानों को भी स्वीकार नहीं करते हैं। यह हमारी पार्टी की आधिकारिक स्थिति है। हमारी पार्टी धर्मनिरपेक्ष है, पार्टी सभी धर्मों का सम्मान करती है।'

टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा पर कथित तौर पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का मामला दर्ज किया गया है। बता दें कि देवी काली पर उनकी टिप्पणी से विवाद खड़ा हो गया था। भोपाल में मोइत्रा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आइपीसी) की धारा 295ए के तहत धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का मामला दर्ज किया गया है।

Edited By: Piyush Kumar