नई दिल्ली [माला दीक्षित]। 2012 Delhi Nirbhaya Case : निर्भया के चारों दोषियों को एक साथ फांसी देने की इजाजत मागने वाली दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार की याचिका पर सुनवाई के दौरान न्यायाधीश आर. भानुमति (Justice R Banumathi) सुप्रीम कोर्ट में ही बेहोश हो गईं। शुक्रवार दोपहर सुनवाई के दौरान यह वाकया होने के बाद कोर्ट रूम में अफरातफरी मच गई। 

बताया जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट में निर्भया मामले की सुनवाई के दौरान जस्टिस भानुमति की अचानक तबीयत खराब हो गई और बाद में ऑर्डर लिखते समय बेहोश हो गईं। फिर कुछ मिनट बाद होश आने पर सहारा देकर अंदर चैंबर में ले जाया गया। इलाज के लिए तत्काल डॉक्टरों को बुलाया गया। बताया जा रहा है कि जस्टिस भानुमति को पहले से ही तेज बुखार था, लेकिन दवा लेकर वह कोर्ट मे बैठी थीं। फिर तबीयत ज्यादा खराब होने पर सुनवाई के दौरान ही बेहोश हो गईं। 

जानिए- पूरा मामला

शुक्रवार दोपहर में जब यह पूरा वाकया हुआ तो न्यायाधीश जस्टिस आर. भानुमति ऑर्डर लिखवा रहीं थीं। सुनवाई स्थगित की जा रही थी। उन्होंने बोला कि नई तारीख लगा देते हैं ...और ऑर्डर लिखवाते-लिखवाते उन्होंने एक-दो लाइन ही बोली। उसके बाद उन्हें तबीयत ठीक नहीं लगी तो बगल वाले जज से उन्होंने कहा कि आदेश के बारे में वह बता दें। इसके बाद न्यायाधीश अशोक भूषण आदेश के बारे में बताने लगे। इसी बीच न्यायाधीश आर. भानुमति तबीयत खराब होने के चलते सीट पर ही बेहोश हो गईं। इसके बाद वहां पर हड़कंप मच गया। कुछ देर बाद होश में आने पर उन्हें सहारा देकर उनको अंदर ले जाया गया। इसके बाद उन्हें चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई गई। बताया जा रहा है कि उन्हें पहले से ही तेज बुखार था और वह दवाई लेकर सुनवाई के लिए आईं थीं। उनकी तबीयत पहले से ही खराब थीं। फिलहाल उनकी तबीयत ठीक है।  

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता (Solicitor General Tushar Mehta) के मुताबिक, उन्हें तेज बुखार था। डॉक्टरों ने मौके पर चैंबर में पहुंचकर उनकी मेडिकल जांच की।  

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस