जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जेईई (ज्वाइंट एंट्रेंस एक्जामनेशन) मेंस की अप्रैल और मई में प्रस्तावित परीक्षाओं के टलने की संभावना बढ़ गई है। शिक्षा मंत्रालय की इस संबंध में नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के आला अधिकारियों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक भी होगी। माना जा रहा है कि अगले एक-दो दिनों में इसे लेकर फैसला लिया जा सकता है।

शिक्षा मंत्रालय पर जेईई मेंस की परीक्षा को स्थगित करने का बढ़ा दवाब

मंत्रालय ने यह पहल उस समय की है, जब चार मई से प्रस्तावित सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाओं को पहले ही वह स्थगित करने का फैसला ले चुका है। वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी अप्रैल में प्रस्तावित नीट पीजी की परीक्षा को स्थगित कर दिया है। ऐसे में 27 अप्रैल से शुरू होने वाली जेईई मेंस की परीक्षा को स्थगित करने का दवाब और बढ़ गया है।

कोरोना संक्रमण के चलते सरकार छात्रों की सुरक्षा को लेकर खतरा मोल नहीं लेना चाहता

छात्रों को ओर से भी ट्विटर पर लगातार जेईई मेंस परीक्षा को स्थगित करने की मुहिम चलाई जा रही है। वैसे भी कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए शिक्षा मंत्रालय छात्रों की सुरक्षा को लेकर किसी भी तरह की कोई खतरा मोल नहीं लेना चाहता है।

शिक्षा मंत्रालय जेईई मेंस की परीक्षा को टालने को लेकर सहमत

सूत्रों के मुताबिक मंत्रालय फिलहाल जेईई मेंस की अप्रैल और मई में प्रस्तावित परीक्षा को टालने को लेकर पूरी तरह से सहमत है। हालांकि छात्रों का एक वर्ग इन परीक्षाओं को न टालने का भी दबाव बना रहा है। बावजूद इसके संक्रमण के खतरे को देखते हुए परीक्षाओं को कुछ समय के स्थगित करने का एक बेहतर विकल्प माना जा रहा है।

इस बार जेईई मेंस की परीक्षा में बैठने के लिए चार मौके

गौरतलब है कि छात्रों को इस बार जेईई मेंस की परीक्षा में बैठने के लिए चार मौके दिए गए है। इसमें से दो परीक्षाएं हो चुकी है, जबकि अभी दो होनी है। इनमें से एक 27 से 30 अप्रैल के बीच और दूसरी 24 से 28 मई के बीच प्रस्तावित है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप