सुकमा/रायपुर, जेएनएन। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में CRPF के एक जवान का वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है। जवान इस वीडियो में अपनी पीड़ा बता रहा है। वह बता रहा है कि नक्सल मोर्चे पर काम करते हुए वह परिवार से अलग रह रहा है और दूसरी तरफ उसके करीबी रिश्तेदारों ने उसकी जमीन पर कब्जा कर लिया है। इसके साथ ही जवान कह रहा है कि पुलिस भी दबंग रिश्तेदारों के साथ गई है और उसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। आहत जवान ने वीडियो के जरिए डाकू पान सिंह तोमर की तरह विद्रोही बनने की चेतावनी दी है।

परिवार को मारने की मिल रही धमकी

जवान ने इस वीडियो में अपने चाचा और अन्य रिश्तेदारों पर जमीन कब्जा करने का आरोप लगाया है। जवान का आरोप है कि उसके रसूखदार रिश्तेदार उसके परिवार को मारने की धमकी दे रहे हैं, लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नही कर रही। इसी से दुखी जवान मदद नहीं मिलने पर डाकू पान सिंह तोमर की तरह बंदूक उठाने की बात कह रहा है। वीडियो में जवान उत्तर प्रदेश की हाथरस तहसील के मुरसान थाना पुलिस की आरोपियों से सांठगांठ होने की बात कह रहा है।

उत्तर प्रदेश के हाथरस का रहने वाला है जवान

छत्तीसगढ़ के घूर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में सीआरपीएफ की 74 वीं बटालियन में तैनात जवान प्रमोद कुमार का यह वीडियो सोशल मीडिया में अब तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में जवान द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार जवान उत्तर प्रदेश के हाथरस इलाके का रहने वाला है, जहां उसकी पुश्तैनी जमीन पर उसके ही करीबी रिश्तेदारों ने कब्जा कर लिया है। जवान को जब इस बात की जानकारी मिली तो वह उसने रिश्तेदारों से कब्जा हटाने की बात की।

जान से मारने की दी जा रही धमकी

इसके बाद रिश्तेदार उसे और उसके परिवार को खत्म करने की धमकी देने लगे। यही नहीं, जवान ने बताया कि गांव में रह रहे उसके छोटे भाइयों को चाचा ने बेरहमी से पीटा। इनमें से एक भाई गंभीर रूप से घायल है, जबकि दूसरा इस घटना के बाद से लापता है। जवान का कहना है कि गांव वापस आने पर उसे और उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दी जा रही है।

जवान ने सुकमा में अपने वरिष्ठ अधिकारियों को इसकी जानकारी दी।  सीआरपीएफ के अधिकारियों ने जवान से इस बारे में लिखित शिकायत लेकर उसे उत्तर प्रदेश की हथरस पुलिस को भेजा, लेकिन इसके बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।

दोनों पक्ष पहुंचे थाने

उधर दूसरी ओर हथरस तहसील के संबंधित थाने से इस बारे में जानकारी लेने पर पता चला कि दोनों पक्षों के बीच पुस्तैनी संपत्ती के बंटवारे को लेकर एसडीएम कोर्ट में मामला लंबित है। इसी बीच पिछले दिनों सिपाही के गांव में गोली चलने की घटना हुई थी। दूसरे पक्ष का आरोप है कि सिपाही प्रमोद ने ही गोली चलाई थी। आपसी विवाद के बाद दोनों पक्ष थाने पहुंचे थे, जहां दोनों के खिलाफ धारा 307 के तहत अपराध कायम कर मामले की जांच की जा रही है।  

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस