शैलेंद्र चौहान

अजित डोभाल की चीन की यात्रा के दौरान वहां की मीडिया ने एक बार फिर डोकलाम मुद्दा उठाया है। ग्लोबल टाइम्स में लिखा गया है कि चीन डोकलाम के मुद्दे पर किसी तरह का समझौता नहीं करेगा। लेख में कहा गया है कि अजित डोभाल के चीन दौरे से कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा। चीन अपने रुख से बिल्कुल भी पीछे नहीं हटेगा। चीन का कहना है कि वह अब भी अपने रुख पर कायम है कि पहले भारत को अपनी सेना को डोकलाम से पीछे हटाना चाहिए, उसके बाद ही शांति की कोई पहल हो सकती है।

बीते महीने चीन ने भारत-भूटान सीमा पर स्थित डोकलाम में एक सड़क बनाने का प्रयास किया। भारत ने सड़क का काम रोक दिया। उसके बाद खासकर चीन की तरफ से भारत को धमकाने का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह अब भी जारी है। तनातनी बढ़ने के बाद दोनों पक्षों ने उक्त सीमा पर अपने सैनिकों की तादाद बढ़ा दी है। इस दौरान कई बार दोनों देशों के बीच युद्ध के भी कयास लगाए जाते रहे, लेकिन चीन की धमकियों के बावजूद भारतीय सेना ने अपने कदम पीछे नहीं हटाए हैं। चीन बार बार कहता रहा है कि भारत के पीछे नहीं हटने तक यह विवाद हल नहीं होगा। दरअसल, इस विवाद की जड़ भारत, भूटान और चीन के आपसी संबंधों में छिपी है।

भारत और भूटान के आपसी संबंध और इनका सामरिक महत्व किसी से छिपा नहीं है। हाल में चीन ने भी भूटान में बड़े पैमाने पर निवेश किया है। ऐसे में भारत को पछाड़ कर भूटान के सबसे बड़े हितैषी के तौर पर उभरने की रणनीति के तहत ही चीन ने डोकलाम में विवाद की शुरुआत की। भूटान-चीन सीमा पर भारत की मौजूदगी की वजह से ही अब तक उन दोनों देशों के बीच उभरे कुछ विवाद हल नहीं हो सके हैं। अब चीन उस इलाके में बड़े भाई की भूमिका में उभरते हुए उन विवादों को अपने हित में हल करने का प्रयास कर रहा है। भूटान पर चीन का दबाव और महत्व बढ़ने की स्थिति में सीमा विवाद सुलझाने में उसे भारत की मध्यस्थता नहीं ङोलनी पड़ेगी।

भारत उस सीमा पर भूटान के हितों की रक्षा करता रहा है। मौजूदा विवाद भी इसी की उपज है। चीन बखूबी जानता है कि भूटान के भारत पर निर्भर रहने तक वहां उसकी अहमियत नहीं बढ़ेगी और साथ ही बीजिंग के साथ उसके राजनयिक संबंध भी विकसित नहीं होंगे। हाल के वर्षो में चीन ने जहां भूटान के साथ सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत करने की पहल शुरू की है, वहीं भूटानी व्यापारियों और छात्रों को चीन में बेहतर अवसर भी मुहैया कराए हैं। इसके पीछे सोच यह है कि अगर भूटान को चीन से करीबी में अपना हित नजर आएगा, तो वह खुद-ब-खुद भारत से दूर हो जाएगा।

चीन अपनी कार्रवाइयों से भूटान को लगातार यह संदेश देता रहा है कि अगर वह उसके साथ आता है तो उसे बेशुमार फायदे होंगे, लेकिन अगर नहीं तो उसे कड़े नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं। डोकलाम विवाद इसी दिशा में एक कदम है। दूसरी ओर, भारत के लिए भी इस सीमा का सामरिक महत्व है। यहां चीन के बढ़ते प्रभुत्व का असर पूवरेत्तर राज्यों को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने वाले चिकेन नेक पर पड़ सकता है। यही वजह है कि भारत इस मुद्दे पर पीछे हटने को तैयार नहीं है। अब सीमा से पीछे हटना चीन के लिए भी नाक का सवाल बन गया है। राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि चीन को इस बात की उम्मीद नहीं थी कि भारत इस तरह भूटान की सीमा में बनने वाली सड़क के निर्माण कार्य में हस्तक्षेप कर सकता है।

यही वजह है कि भारत के रवैये से उसे झटका लगा है। ऐसे में चीनी मीडिया और सरकारी अधिकारियों की ओर से भारत को मिलने वाली धमकियों में कोई नई बात नहीं है। चीनी अधिकारी बार-बार कहते रहे हैं कि भारतीय सेना के पीछे नहीं हटने तक इस मुद्दे पर कोई बातचीत नहीं होगी। अब चीन के पीछे हटने की स्थिति में पूरी दुनिया में उसकी थुक्का-फजीहत होने का खतरा है। इससे साफ हो जाएगा कि चीन की कार्रवाई गलत थी। चीन सरकार मौजूदा हालात में कम से कम यह खतरा नहीं उठा सकती। इस विवाद के तमाम पहलुओं को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के दौरे में इस मुद्दे के हल होने की कोई खास उम्मीद नहीं है। चीनी विदेश मंत्रलय ने पहले ही साफ कर दिया है कि भारत के बिना शर्त सेना हटाने तक इस मुद्दे पर कोई बातचीत नहीं हो सकती। इससे मुद्दा सुलझने के बजाय उलङोगा।

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं)

Posted By: Kamal Verma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप