चेन्नई, प्रेट्र। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने बताया है कि संचार उपग्रह जीसैट-19 को अंतरिक्ष में ले जाने का 25 घंटे का काउंटडाउन शुरू हो चुका है। इस सैटेलाइट को अंतरिक्ष में ले जाने का काम देश का सबसे भारी राकेट जीएसएलवी एमके3 करेगा। इससे दुनिया में भारत की साख बढ़ जाएगी।

यह राकेट चार हजार किलो तक के उपग्रह ले जा सकता है। इस राकेट का प्रक्षेपण सोमवार की शाम को श्रीहरिकोटा से होगा। श्रीहरिकोटा से 120 किमी दूर दूसरे लांच पैड सतीश धवन स्पेस सेंटर से सोमवार को शाम 5.28 बजे जीएसएलवी एमके3-डी1 राकेट को लांच किया जाना है। जीएसएलवी एमके3-डी1 राकेट अब 3,136 किलोग्राम वजन के उपग्रह जीसैट-19 को अंतरिक्ष में स्थापित करेगा।

यह भी पढ़ें: पशु वध कानून से जुड़े सुझावों पर गंभीरता से होगा विचार

इसरो के मुताबिक यह लांच मिशन की रिव्यू कमेटी और लांच एथोराइजेशन बोर्ड की मंजूरी मिलते ही होगा। इसरो के अध्यक्ष एएस किरन कुमार ने कहा कि लांच की सभी गतिविधियां शुरू हो चुकी हैं। कल शाम को प्रक्षेपण होने की पूरी उम्मीद है।

यह भी पढ़ें: केंद्रीय मंत्री को पेड़ पर चढ़कर करनी पड़ी बात

Posted By: Ravindra Pratap Sing

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस