तिरुनेलवेली (तमिलनाडु)। इसरो प्रमुख एएस किरण कुमार ने शुक्रवार को कहा कि संगठन को आर्थिक तौर पर ज्यादा व्यावहारिक और व्यावसायिक अंतरिक्ष कार्यक्रमों के माध्यम से अधिक राजस्व जुटाने वाला बनना चाहिए। उन्होंने दावा किया कि दुनियाभर के अंतरिक्ष अनुसंधान संगठनों के व्यावसायिक कोर बहुत तेजी से फलफूल रहे हैं।

यहां 'अंतरिक्ष संगठन और अनुसंधान कार्यक्रम' विषयक एक राष्ट्रीय स्तर के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कुमार ने ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि इसरो के व्यावसायिक कार्यक्रमों के हित में गैर सरकारी संगठनों को जुड़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) को अधिक राजस्व जुटाने वाला बनाया जाएगा। कुमार ने कहा कि इसरो ज्यादा अनुसंधान गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करेगा। वह अंतरिक्ष कार्यक्रमों की व्यावसायिक गतिविधियों को प्रोत्साहित करेगा।

यह सुनिश्चित किया जाएगा कि भारत उन देशों में हो जो 'मेक इन इंडिया' के तहत व्यावसायिक अंतरिक्ष कार्यक्रमों का उपयोग करने वाला देश बने। उन्होंने अंतरिक्ष अनुसंधान कार्यक्रमों का फायदा उठाने के लिए वैज्ञानिकों से भी सलाह मांगी है। कुमार ने बताया कि इसरो में अनुसंधान गतिविधियां कंप्यूटरीकृत है।

पढ़ें: चंद्रयान-2 पूरी तरह स्वदेशी होगा : इसरो

मंगलयान ने भेजी मंगल की तस्वीरें, हुईं वायरल

Posted By: Kamal Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस