बेंगलुरू, एएनआइ। इसरो चीफ (ISRO chairperson) डॉ. के सिवन (Dr K. Sivan) ने बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि भारत का चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2) 15 जुलाई को दोपहर 2.51 बजे चांद के लिए टेक ऑफ करेगा। चंद्रयान-2 अपने साथ लगभग 3.8 टन वजनी 13 उपग्रहों को भी अपने साथ ले जाएगा। यह वजन लगभग आठ हाथियों के बराबर है।

लैंडर (विक्रम) चंद्रमा के दक्षिणी हिस्‍से पर उतरेगा और रोवर (प्रज्ञान) अपनी जगह पर प्रयोग करेगा। इन दोनों में भी प्रयोग के लिए उपकरण लगाए गए हैं। देश के दूसरे मून मिशन चंद्रयान-2 में कई खासियतें हैं। चंद्रयान-2 में एक भी विदेशी पेलोड (अंतरिक्ष यान का हिस्सा) नहीं होगा। मिशन में 13 भारतीय पेलोड (अंतरिक्ष यान का हिस्सा) और अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का एक उपकरण शामिल किया गया है। वहीं इसके विपरीत भारत के पहले चंद्र मिशन चंद्रयान-1 के ऑर्बिटर में 3 यूरोप और 2 अमेरिका के पेलोड्स थे।

इसरो के मुताबिक 13 भारतीय पेलोड (ऑर्बिटर पर आठ, लैंडर पर तीन व रोवर पर दो) और एक अमेरिकी पैसिव एक्सपेरिमेंट (उपकरण)..।' हालांकि, इसरो ने इनकी उपयोगिता या उद्देश्य के बारे में जानकारी नहीं दी। 3.8 टन वजनी इस अंतरिक्ष यान के तीन मॉड्यूल हैं। इनमें ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) व रोवर (प्रज्ञान) शामिल हैं। इसके लिए सभी मॉड्यूल को तैयार किया जा रहा है।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप