नई दिल्‍ली, जेएनएन। Coronavirus 4th Wave: भारत में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। कोरोना महामारी के नए मामले एक बार फिर डराने लगे हैं। कोरोना वायरस की रफ्तार को देखते हुए देश में कोरोना महामारी की चौथी लहर (Covid-19 4th Wave) की आशंका जताई जाने लगी है। पिछले एक सप्ताह में महाराष्ट्र और केरल के अलावा दिल्ली और हरियाणा समेत कई राज्यों में कोरोना वायरस के नए मामलों में तेजी आई है। ऐसे में सवाल उठता है कि क्‍या भारत में एक बार फ‍िर चौथी लहर की आंशका है, जिस तरह से मामले बढ़ रहे हैं, उससे यह आशंका प्रबल हो रही है कि क्‍या देश में फ‍िर से लाकडाउन की स्थिति उत्‍पन्‍न होगी। क्‍या है कोरोना वायरस की पहचान। कैसे कोरोना से खुद को बचाएं। इन तमाम सवालों पर क्‍या है विशेषज्ञों की राय।

1- गाजियाबाद स्थिति यशोदा अस्‍पताल के एमडी डा. पीएन अरोड़ा का कहना है कोरोना वायरस का अस्तित्‍व पूरी तरह से खत्‍म नहीं हुआ है। इसके स्‍वरूप में लगातार बदलाव हो रहा है। इसलिए सावधानी की जरूरत अभी भी है। इसके लिए केंद्र सरकार लगातार गाइड लाइन जारी कर रही है। इस पर पूरी नजर रखना होगा। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि कोरोना वायरस के लक्ष्‍ण क्‍या है। कोरोना वायरस अलग-अलग लोगों को भिन्‍न-भिन्‍न तरह से प्रभावित करता है। संक्रमित हुए अधिकतर लोगों को थोड़े से लेकर मध्यम लक्षण तक की बीमारी होती है और वे अस्पताल में भर्ती हुए बिना ठीक हो जाते हैं।

2- उन्‍होंने कहा कि यह जानना जरूरी है कि कोरोना वायरस के लक्ष्‍ण क्‍या है। कोरोना से संक्रमित मरीजों में आम लक्ष्‍ण है बुखार, खांसी, थकान। उन्‍होंने कहा यह भी देखा गया है कि कोरोना से संक्रमित मरीजों में स्‍वाद और गंध का पता नहीं चल रहा है। डा अरोड़ा का कहना है कि इसके अलावा गले में खरास, सिरदर्द भी बना रहता है। कोरोना के सामान्‍य लक्ष्‍णों में त्‍वचा पर चकत्‍ते आना या हाथ या पैर की उंगलियों में रंग बदलना भी शामिल है। अगर किसी मरीज को ऐसे लक्ष्‍ण दिख रहे हैं तो उसे तत्‍काल अपनी जांच करानी चाहिए। उन्‍होंने कहा मरीजों को भारत सरकार की गाइड लाइन और विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की गाइड लाइन की अनदेखी नहीं करनी चाहिए।

3- डा अरोड़ा का कहना है कि देश में पिछले कुछ हफ्तों में कोरोना वायरस संक्रमण में वृद्धि देखी जा रही है। 10 राज्यों महाराष्ट्र, केरल, दिल्ली, कर्नाटक, तमिलनाडु, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और गुजरात में 1,000 से अधिक सक्रिय मामले हैं। उन्‍होंने कहा कि यह चिंता का विषय है। इस सवाल पर कि क्‍या भारत में कोरोना वायरस की चौथी लहर की गुंजाइश है। इस पर उनका कहना है कि वायरस की प्रकृति को समझना वैज्ञानिकों के लिए एक बड़ी चुनौती है। उन्‍होंने कहा कोरोना वायरस अपना वैरिंएट बदल रहा है। ऐसे में हमको सावधानी बरतनी चाहिए। भारत में कोरोना की तीन लहर से हमने अच्‍छा अनुभव प्राप्‍त किया है। भारत सरकार किसी भी लहर से निपटने के लिए ज्‍यादा सक्षम है, लेकिन सावधानी बेहद जरूरी है। इसके लिए सार्वजनिक स्‍थानों पर मास्‍क का प्रयोग जरूर करना चाहिए। अगर हम कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते रहेंगे तो यह नौबत नहीं आएगी।

4- डा. अरोड़ा का कहना है कि इस वक्‍त देश में स्‍वास्‍थ्‍य का आधारभूत ढांचा मजबूत हुआ है। कोरोना की पहली लहर और दूसरी लहर के बाद देश में स्‍वास्‍थ्‍य सेवाएं मजबूत हुई है। आज देश में करीब 18.03 लाख से ज्‍यादा आइसोलेशन बेड का इंतजाम है। इसके अलावा 1.24 लाख आइसीयू बेड के इंतजाम है। देश में 3.236 आक्‍सीजन के प्‍लांट है। इनकी क्षमता 3,783 मीट्रिक टन है। 1,14 लाख आक्‍सीजन कंसंट्रेटर केंद्र ने राज्‍य सरकार को मुहैया कराए हैं। देश में 150 करोड़ वैक्‍सीन के डोज दिए जा चुके हैं। एक बड़ी आबादी को दो डोज मिल चुकी है। ऐसे में यह उम्‍मीद कम है कि देश में कठोर लाकडाउन की स्थिति बनेगी। फ‍िलहाल कुछ राज्‍यों को छोड़ दिया जाए तो स्थिति काबू में हैं। लाकडाउन से बचने के लिए हमें सरकार की गाइड लाइन और सुझावों पर कठोरता से अमल करना होगा। कोरोना प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन करना होगा।

चिंता में डालने वाला कोई नया वैरिएंट नहीं

अब तक देश में चिंता में डालने वाला कोई नया वैरिएंट नहीं है। भारत में अब बीए.2 के अलावा बीए.4 और बीए.5 हैं, जिनमें अन्य ओमिक्रान सबलाइनेज की तुलना में थोड़ी अधिक संक्रामकता है। केरल के 11, मिजोरम के छह और महाराष्ट्र के पांच जिलों सहित भारत के 43 जिलों में साप्ताहिक कोरोना संक्रमण दर 10 फीसद से अधिक है। सूत्रों ने कहा कि 42 जिलों में, जिनमें राजस्थान के आठ, दिल्ली के पांच और तमिलनाडु के चार जिले शामिल हैं, साप्ताहिक संक्रमण दर पांच से दस फीसद के बीच है। किसी भी नए उभरते हुए वैरिएंट या सब-वैरिएंट की संभावना की जांच करने और संक्रमण के पीछे के कारणों का पता लगाने के लिए निर्देश जारी किया गया है। भारतीय SARS-CoV-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (INSACOG) के विशेषज्ञों के अनुसार, ओमिक्रान और इसके वैरिएंट मुख्य रूप से बीए.2 (BA.2)और बीए.2.38 (BA.2.38) कोविड के मामलों में मौजूदा वृद्धि के पीछे हैं। बीए.2 और इससे जुड़े वायरस 85 फीसद मामलों में मिले हैं, 33 फीसद सैंपल में बीए.2.38 मिला है।

Edited By: Ramesh Mishra