मुंबई । अपनी बेटी शीना बोरा हत्याकांड की मुख्य अभियुक्त इंद्राणी मुखर्जी की सेहत ठीक होने के बाद उसे अस्पताल से वापस जेल भेज दिया गया है। शुक्रवार को बेहोशी की हालत में उसे जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जेजे अस्पताल के डीन डॉ. टीपी लहाने ने मंगलवार को कहा कि इंद्राणी के बेहतर स्वास्थ्य को देखते हुए उसे छुट्टी दे दी गई। उसके बाद इंद्राणी ने डेढ़ पेजी अपने बयान में कहा कि उसने आत्महत्या की कोशिश नहीं की। कोई दवा भी नहीं ली थी। ऐसा उसके साथ 13 साल की उम्र में भी हो चुका है।

इस बीच, इंद्राणी ने अपने वकील के माध्यम से स्थानीय अदालत को सूचित किया है कि सीबीआई पूछताछ पर उसे कोई आपत्ति नहीं है। मेट्रोपॉलिटन अदालत ने सीबीआई की पूछताछ की अनुमति मांगने वाली अर्जी पर फैसला बुधवार के लिए रख लिया है। अस्पताल प्रशासन ने सीलबंद लिफाफे में इंद्राणी के स्वास्थ्य पर अपनी रिपोर्ट भी अदालत को सौंपी है। अदालत ने इंद्राणी समेत हत्याकांड के तीनों अभियुक्तों से पूछताछ के मामले पर फैसला सुरक्षित रख लिया है।

पढ़ेंःइंद्राणी को आया होश, हालत खतरे से बाहरः डॉ लहाणे

इस पर फैसला बुधवार को सुनाया जाएगा। जहर दिए जाने की आशंका दूसरी तरफ, इंद्राणी के बेहोश होने के मामले की जांच कर रहे गृह विभाग के अधिकारी उसे जहर दिए जाने की आशंका जता रहे हैं। गृह विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अब हम इस बात पर फोकस कर रहे हैं कि किसी और तरीके से उसे जहर तो नहीं दिया गया?उन्होंने कहा कि पहली नजर में इस बात की संभावना कम नजर आती है कि उसने कई दिनों तक दवाओं को इकट्ठा किया होगा और फिर एक बार में ही खा लिया होगा। जेल के किसी अधिकारी की भी उसको आत्महत्या में मदद करने की मंशा नहीं थी। ऐसे में दूर की आशंका है कि शायद किसी बाहरी व्यक्ति ने उसे जहर देने का प्रयास किया।

इंद्राणी और उसके पूर्व पति संजीव की न्यायिक हिरासत 19 तक बढ़ी

Posted By: Sanjeev Tiwari