नई दिल्ली, एएनआइ। भारतीय डायरेक्टरेट जनरल ऑफ डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन ने कहा कि  एयर बबल्स ’समझौते के तहत भारतीय यात्री किसी भी तरह का वैध वीजा रखने वाले भारतीय यात्री यूके, अमेरिका, कनाडा और यूएई की यात्रा कर सकते हैं। डीजीसीए इंडिया ने एक बयान में कहा कि बबल एग्रीमेंट के तहत किसी भी तरह का वैध वीजा रखने वाला कोई भी भारतीय व्यक्ति कनाडा, यूके, यूएस और यूएई की यात्रा कर सकता है।

कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के बीच यूरोपीय संघ द्वारा जारी पूर्व दिशानिर्देशों के अनुसार, केवल आवश्यक वीजा रखने वालों को ही विदेश यात्रा की अनुमति दी गई थी। हाल ही में, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने पुष्टि की थी कि अन्य देशों के साथ अधिक इस एग्रीमेंट के तहत किया जा रहा है। इसी बीच, भारत ने गृह मंत्रालय द्वारा अनुमोदित आवश्यक वीजा रखने वालों को छोड़कर देश में सभी प्रकार के वीजा धारकों के प्रवेश की अनुमति नहीं दी है।

चलिए हम बताते है कि आखिर क्या है एयर बब्ल समझौता

जानकारी के लिए बता दें कि केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एयर बबल्स (air bubbles) शब्द का इस्तेमाल किया। अब सवाल ये है कि इसका मतलब क्या है। दरअसल, इसके तहत हवाई यात्रा के लिए दो देशों के बीच एग्रीमेंट किया जाता है। दो देशों द्वारा द्विपक्षीय समझौता के तहत जब एक खास एयर कॉरिडोर बनाया जाता है तो उसे एयर बबल कहते हैं।

ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि हवाई यात्रा में कोई परेशानी ना आए। इस समय दुनियाभर के देश कोरोना संकट से जूझ रहे हैं, इसलिए कई तरह की शर्तों के साथ दो देश आपस में एयर बबल्स शुरू कर सकते है।, जिसमें सुरक्षा मानकों का पालन करना जरूरी होता है। फिलहाल, भारत बाकी देशों के साथ भी इस प्रक्रिया में जुटा हुआ है।   बता दें कि अभी भी कई देशों के साथ एयर बब्ल को लेकर बातचीत की जा रही है। 

Posted By: Ayushi Tyagi

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस