नई दिल्ली, एजेंसी। भारतीय रेलवे (Indian Railway) बहुत जल्द अपने यात्रियों को स्टेशन पर ही होटलों जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराने जा रहा है। इसके लिए रेलवे विभाग ने अपने सभी जोन को आदेश जारी कर दिए हैं। रेलवे विभाग, IRCTC के साथ मिलकर यात्री सुविधाओं को बेहतर करने की दिशा में इस योजना पर काम कर रहा है। रेलवे का प्रयास है कि यात्री सुविधाओं के साथ ही देश भर के सभी प्रमुख रेलवे स्टेशनों को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनाया जाए। इसके लिए कवायद भी शुरू कर दी गई है।

खास बात ये है कि रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को विश्व स्तरीय सुविधा उपलब्ध कराने की योजना पर पिछले दो वर्ष से काम चल रहा है। बहुत से स्टेशन पर काम शुरू भी हो चुका है, लेकिन अब भी ज्यादातर स्टेशनों पर काम शुरू होना बाकी है। लिहाजा रेलवे ने अपने सभी जोन को तत्काल इस दिशा में काम शुरू कराने का आदेश जारी किया है। इस योजना के तहत रेलवे बहुत जल्द यात्रियों को अपने स्टेशनों पर ही ठहरने के लिए होटल जैसी सुविधाएं किफायती दरों पर उपलब्ध कराने जा रहा है।

रेलवे ने अपने सभी जोन को आदेश जारी करते हुए कहा है कि वह स्टेशन पर मौजूद रिटायरिंग रूम और डारमेट्री को तत्काल IRCTC को सौंपने की प्रक्रिया शुरू कर दें। IRCTC इन डारमेट्री व रिटायरिंग रूम को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विकसित करेगी। इसके बाद यात्रियों को इनकी ऑनलाइन बुकिंग की सुविधा प्रदान की जाएगी। इन डारमेट्री व रिटायरिंग रूम में यात्रियों को होटलों जैसी खाने-पीने और मनोरंजन आदि की सुविधाएं मिलेंगी।

रेलवे के अनुसार दो वर्ष से इस योजना पर काम चल रहा है, लिहाजा अब सभी जोन को इस योजना पर तेजी लाने के आदेश जारी किए गए हैं। रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में दो मई को ही सभी जोन को आदेश जारी कर दिया है। रेलवे बोर्ड के अनुसार IRCTC द्वारा अपग्रेड किए जाने वाले रिटायरिंग रूम व डारमेट्री में यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं मिलेंगी। इसमें बेहतरीन बिस्तर के साथ, अलमारी, लॉकर, एलईडी टीवी, टेलिफोन, इंटरकॉम, अग्निशमन यंत्र, पोर्टेबल वाटर और रूम हीटर जैसी सुविधाएं शामिल होंगी।

टूर एंड ट्रैवेल सुविधा भी मिलेगी
IRCTC के एक वरिष्ठ अधिकारी ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि स्टेशनों पर ठहरने की विश्वस्तरीय सुविधाएं उपलब्ध कराने के साथ ही यात्रियों को टूर एंड ट्रैवेल की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी। इसमें लोकल साइटसीइंग (स्थानीय पर्यटन) की सुविधा भी शामिल होगी।

600 स्टेशनों पर ठहरने की सुविधा
भारतीय रेलवे द्वारा फिलहाल देशभर के 600 रेलवे स्टेशनों पर 2000 से ज्यादा रिटायरिंग रूम और डारमेट्री की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। इन्हें आईआरसीटीसी को सौंपने के पीछे मकसद है कि यात्रियों को कम कीमत पर स्टेशन पर ही ठहरने या विश्राम करने की बेहतर व सुरक्षित सुविधा उपलब्ध कराई जा सके। इन रिटायरिंग रूम और डॉरमेट्री को 72 घंटे पहले बुक कराया जा सकेगा। पिछले दो वर्ष में इनमें से अब तक मात्र 32 स्टेशनों के रिटायरिंग रूम और डारमेट्री आईआरसीटीसी के सुपुर्द किए गए हैं। आईआरसीटीसी अन्य स्टेशनों पर भी इन सुविधाओं को उपलब्ध कराने की योजना पर काम कर रहा है।

चार स्लॉट में होगी बुकिंग
IRCTC के अनुसार स्टेशन पर मिलने वाले रिटायरिंग रूम और डारमेट्री की बुकिंग चार स्लॉट में 72 घंटे पहले कराई जा सकेगी। ये चार स्लॉट होंगे, तीन घंटे के लिए, छह घंटे के लिए, 12 घंटे और 24 घंटे के लिए। स्लॉट और स्टेशन के हिसाब से इनकी बुकिंग दरें अलग-अलग होंगी।

2016-17 रेल बजट में हुई थी घोषणा
वर्ष 2016-17 के रेल बजट में तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इस योजना की घोषणा की थी। उन्होंने बजट प्रस्तुत करते हुए बताया था कि रेलवे स्टेशनों पर मौजूद रिटायरिंग रूम और डारमेट्री को आईआरसीटीसी को सौंपा जाएगा, ताकि पेशेवर तरीके से इनका बेहतर रख-रखाव किया जा सके। इसके बाद ही रेलवे ने अपने सभी जोनल डिविजन को योजना की गाइड लाइन जारी करते हुए रिटायरिंग रूम व डारमेट्री आईआरसीटीसी को सौंपने के निर्देश जारी कर दिए हैं। साथ ही आईआरसीटीसी को चरणबद्ध तरीके से इनके विकास की योजना प्रस्तुत करने को कहा गया था।

कुछ स्टेशनों को दी छूट
रेलवे बोर्ड ने अपने पत्र में उन स्टेशनों को रिटायरिंग रूम व डारमेट्री सौंपने से छूट दी है, जहां पर जीर्णोद्धार का काम चल रहा है। इसमें भोपाल का हबीबगंज रेलवे स्टेशन, दिल्ली का आनंद विहार टर्मिनल स्टेशन व बिजवासन स्टेशन और गुजरात का गांधीनगर व सूरत स्टेशन शामिल है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Amit Singh