नई दिल्ली, प्रेट्र। भारतीय रेलवे जल्द ही ट्रेन किराये में यूजर चार्ज भी वसूलना शुरू कर देगा। जिन स्टेशनों का पुनर्विकास किया गया है और जहां सबसे ज्यादा यात्री पहुंचते हैं, वहां यह शुल्क लगाया जाएगा। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव ने एक दिन पहले गुरुवार को कहा था स्टेशनों पर यात्रियों को हवाई अड्डे -जैसी विश्वस्तरीय सुविधा मुहैया कराने के लिए राजस्व बढ़ाने की दिशा में यह कदम उठाया जाएगा। एक बार लागू हो जाने के बाद रेल यात्रियों से पहली बार इस तरह का शुल्क वसूला जाएगा।

स्टेशनों पर हवाई अड्डे जैसी विश्वस्तरीय सुविधा मुहैया कराने में जुटा है रेलवे

यादव ने कहा कि शुल्क मामूली होगा और देश भर के 7000 स्टेशनों में से करीब 10 से 15 फीसद पर यह लागू होगा। रेलवे बोर्ड चेयरमैन ने कहा, 'हम यूजर चार्ज के रूप में बहुत छोटी सी राशि वसूलने जा रहे हैं। हम सभी स्टेशनों के लिए यूजर चार्ज की अधिसूचना जारी करने जा रहे हैं। इस तरह के स्टेशनों में दोनों, जिनका पुनर्विकास हो रहा है और जिनका नहीं हो रहा है शामिल होंगे।'

रेलवे स्टेशनों में सुविधाओं के सुधार के लिए मिलती रहेगी

यादव ने आगे बताया, 'स्टेशनों का पुनर्विकास पूरा हो जाने के बाद राशि रियायत में चली जाएगी। तब तक यह राशि रेलवे को स्टेशनों में सुविधाओं के सुधार के लिए मिलती रहेगी। यह एक मामूली राशि होगी, लेकिन यदि हम हवाई अड्डे -जैसी विश्वस्तरीय सुविधा मुहैया कराना चाहते हैं तो यह लेवी महत्वपूर्ण है। हम अपने सभी बड़े रेलवे स्टेशनों को विकसित करना चाहते हैं।'

उन्होंने आगे कहा कि रेलवे सभी 7000 स्टेशनों पर लेवी नहीं लगाएगा, लेकिन उन सभी बड़े स्टेशनों जहां अगले पांच वर्षो में आने वाले यात्रियों की संख्या में वृद्धि होगी वहीं लेवी की वसूली की जाएगी।

गौरतलब है कि दक्षिण पश्चिम रेलवे ने पिछले दिनों प्लेटफार्म टिकटों की कीमत में 400 फीसद की वृद्धि करने की घोषणा की थी। दक्षिण पश्चिम रेलवे का कहना था कि यह कदम कोरोना काल में रेलवे प्लेटफार्मों पर भीड़ को रोकने के लिए लगाया गया। चुने हुए रेलवे स्टेशनों पर टिकट की कीमत 10 रुपये से 50 रुपये हो गई है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस