नई दिल्ली, प्रेट्र। भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आइआरसीटीसी) अगले महीने से अपनी ई-कैटरिंग सेवाओं को फिर से शुरू करेगा, जो यात्रियों के लिए एक बड़ी राहत की बात है। आइआरसीटीसी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। कोरोना महामारी से निपटने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण 22 मार्च, 2020 को ई-खानपान सेवाओं को स्थगित कर दिया गया था।

भारतीय रेलवे की खानपान व्यवस्था और पर्यटन संबंधी गतिविधियों का कार्यभार संभालने वाला आइआरसीटीसी विशेष रेलगाड़ियों में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए ई-खानपान सेवाओं को फिर से शुरू करने जा रहा है। बताते चलें कि आइआरसीटीसी ने 2014 में इस सेवा की शुरुआत की थी। एक बयान में कहा गया है कि रेल मंत्रालय की अनुमति से आइआरसीटीसी फरवरी से चरणबद्ध तरीके से ई-खानपान सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए तैयार है। 

 250 ट्रेनों में शुरु होगी ई-कैटरिंग सेवा

आईआरसीटीसी से फरवरी 2021से 30 रेलवे स्टेशनों और 250 ट्रेनों से ई-कैटरिंग सेवा की शुरुआत करने जा रही है। इसके बाद धीरे-धीरे आईआरसीटीसी ई-कैटरिंग सेवा का विस्तार करेगी। कोविड के दौरान आईआरसीटीसी डब्लूएचओ के जारी निर्देश पर 22 मार्च 2020 को देश भर के सभी ट्रेनों में ई-कैटरिंग सेवा को बंद कर दिया था।

आईआरसीटीसी ने बताया कि रेल मंत्रालय से अनुमति मिलने के बाद, आईआरसीटीसी जल्द ही चरणबद्ध तरीके से ट्रेनों में ई-कैटरिंग सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए तैयार है। आईआरसीटीसी ई-कैटरिंग सेवाओं का पहला चरण शुरू कर रही है। आईआरसीटीसी यह सुनिश्चित कर रहा है कि उसके सभी ई-खानपान भागीदार यात्रियों को भोजन परोसते समय उचित स्वास्थ्य और स्वच्छता प्रोटोकॉल सुनिश्चित करें।

 रेल यात्री ऐसे बुक कर सकते हैं खाना

रेल यात्री www.ecatering.irctc.com के माध्यम से ई-कैटरिंग की सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। इसके अतिरिक्त टेलिफोन के माध्यम से ई-कैटरिंग सेवा का लाभ यात्री ले सकते हैं। इसके अतिरिक्त यात्री आईआरसीटीसी ई-कैटरिंग ऐप "फूड ऑन ट्रैक" को विभिन्न ऐप स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं और ई-कैटरिंग सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। यात्रियों की सुविधा के लिए कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प भी दिया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः Indian Railways: 44 नई वंदे भारत ट्रेन बनाने के लिए रेलवे ने दिया ठेका, जानिए क्‍या है प्‍लान

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप